संस, कालूबथान : कालूबथान ओपी क्षेत्र के बांदराबाद गांव की कविता कुंभकार के परिवार को गांव के पंचों की ओर से सामाजिक बहिष्कार करने की खबर पाकर प्रशासन रेस हो गया। शनिवार को इस मामले को सलटाने के लिए कालूबथान ओपी परिसर में निरसा की विधायक अपर्णा सेनगुप्ता की अध्यक्षता में पुलिस अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की बैठक हुई। संचालन झामुमो नेता दुलाल चक्रवर्ती ने किया। बैठक में एसडीपीओ पीतांबर खेरवाल व झामुमो के वरिष्ठ नेता अशोक मंडल भी उपस्थित थे। घंटों चली इस बैठक में विवाद को सुलझा लिया गया। कविता कुंभकार के परिवार को सामाजिक बहिष्कार से मुक्त कर दिया गया। पूर्व में जुर्माना के रूप से लिए गए 11 हजार रुपये को भी वापस कर दिया गया।

कविता के परिवार से सामाजिक बहिष्कार के नाम पर 19 हजार पांच सौ रुपये जुर्माना वसूला गया था। बैठक में यह बताया कि गांव के एक परिवार के जहर खा लेने के बाद उसे धनबाद के एसएनएमएमसीएच में भर्ती कराया गया था। उसके इलाज में 8500 रुपये खर्च हो गए थे। अब 11 हजार बचे हैं जिसे वापस किया गया। बैठक में विधायक अपर्णा सेनगुप्ता ने कहा कि यह मामला दो माह पुराना है। उस समय किसी ने थाने में शिकायत नहीं की थी। यह दोनों पक्षों की गलती है। इसलिए दोनों पक्षों को कुछ न कुछ नुकसान सहना पड़ेगा।

एसडीपीओ पीतांबर खेरवाल ने कहा कि अखबार में खबर छपने के बाद उन्हें उक्त घटना की जानकारी हुई। आगे इस तरह का मामला होने पर तुरंत पुलिस को सूचना दें। इस तरह के मामले को गांव में सुलझा कर दबाने का प्रयास नहीं करें। झामुमो नेता अशोक मंडल ने कहा कि अब समय बदल गया है, इसलिए गांव में बड़ा मामला होने पर तुरंत पुलिस को सूचना देना ही बेहतर होगा।

बैठक में ओपी प्रभारी प्रदीप राणा, जिप सदस्य दिल मोहम्मद, झामुमो के ठाकुर मांझी, मुखिया गोपाल दास, भाजपा के गोपाल भारती, सीमांत मंडल, गौतम बनर्जी, प्रजापति समाज के मोहन कुंभकार, महादेव कुंभकार, अशोक कुंभकार, वृंदावन कुंभकार, पप्पू पंडित सहित दर्जनों ग्रामीण व नेता उपस्थित थे।

Edited By: Jagran