जागरण संवाददाता, धनबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर संताल के लिए जिन तोहफों की बारिश का एलान किया था, वो शुरू हो गई है। झारखंड की उप राजधानी दुमका के नोनीहाट स्टेशन पर 25 सितंबर से कविगुरु एक्सप्रेस का ठहराव शुरू हो जाएगा। रेलवे बोर्ड के डिप्टी डायरेक्टर कोचिंग विवेक कुमार सिन्हा ने इससे जुड़ा आदेश जारी कर दिया है। हावड़ा से भागलपुर होकर जमालपुर जानेवाली ट्रेन का 25 सितंबर से दोनों ओर से नोनीहाट में ठहराव शुरू हो जाएगा।

नोनीहाट दुमका के जरमुंडी क्षेत्र का रेलवे स्टेशन है जहां ट्रेन का ठहराव शुरू होने से झारखंड, बिहार और बंगाल पहुंचने की राह आसान हो जाएगी। इसके साथ ही आसनसोल से गुजरात के लिए भी एक और ट्रेन मिलेगी। अभी आसनसोल से धनबाद होकर भावनगर तक साप्ताहिक पारसनाथ एक्सप्रेस चल रही है। 29 सितंबर से बरौनी-अहमदाबाद एक्सप्रेस आसनसोल से चलेगी। इस ट्रेन के चलने से बंगाल के साथ-साथ संताल के यात्रियों को गुजरात के लिए सीधी ट्रेन मिल जाएगी। ट्रेन का ठहराव मधुपुर और जसीडीह स्टेशन पर भी होगा। इस ट्रेन के विस्तार को हरी झंडी भी रेलमंत्री दिखाएंगे। जल्द ही शेड्यूल जारी होगा।

रेलमंत्री दिखाएंगे विडियो कांफ्रेंसिंग से हरी झंडी

हावउ़ा-जमलालपुर कविगुरु एक्सप्रेस के ठहराव की शुरुआत रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव हरी झंडी दिखाकर करेंगे। उनका कार्यक्रम आनलाइन होगा। विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ग्रीन सिग्नल दिखाएंगे। नोनीहाट स्टेशन पर गोड्डा सांसद डा. निशिकांत दुबे समेत अन्य जनप्रतिनिधि और रेल अधिकारी मौजूद रहेंगे।

छह महीने के ट्रायल पर मिली ठहराव को मंजूरी

03015 हावड़ा-जमालपुर कविगुरु एक्सप्रेस और 03016 जमालपुर-हावड़ा कविगुरु एक्सप्रेस के ठहराव को छह महीने के ट्रायल के तौर पर मंजूरी दी गई है। रेलवे बोर्ड ने टिकटों की बुकिंग की निगरानी का आदेश भी दिया है। टिकटों की बुकिंग से होनेवाली आमदनी का ब्योरा 25 फरवरी 2022 तक रेलवे बोर्ड को सौंपी जाएगी। रिस्पांस अच्छा रहा तो ट्रेन के फेरे में बढ़ोतरी का निर्णय होगा। यात्री नहीं मिले तो छह महीने बाद ठहराव वापस भी लिया जा सकता है।

Edited By: Atul Singh