धनबाद, जेएनएन। Jharkhand Vidhan Sabha Election 2019 जिला के छह विधानसभा सीटों पर चौथे चरण में मतदान होना है। महागठबंधन में शामिल कांग्रेस ने झरिया, बाघमारा और धनबाद में अपने प्रत्याशी की घोषणा कर दिया है। वहीं झामुमो केवल टुंडी को लेकर तैयार थी, लेकिन अब माहौल बदल गया है। टुंडी के अलावा सिंदरी और निरसा से भी पार्टी प्रत्याशी देने की तैयारी में है। झामुमो की केंद्रीय कमेटी में शामिल अमितेश सहाय ने इसके संकेत दिए।

पिछले दिनों मासस के निरसा विधायक अरूप चटर्जी ने रांची में झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन से मुलाकात की थी। इस दौरान उनके साथ वामपंथ के कुछ अन्य नेता भी साथ थे। अरूप और हेमंत के इस मुलाकात के बाद निरसा की राजनीतिक समीकरण बदली नजर आ रही थी। अब मासस द्वारा खुलकर सभी सीटों पर उम्मीदवार देने की घोषणा ने झामुमो को निश्चिंतता प्रदान की है।

इधर, निरसा में झामुमो टिकट के प्रबल दावेदार अशोक मंडल को भी मासस के इस फैसले ने बल दिया है। बता दें कि हेमंत से मुलाकात के दौरान अरूप चटर्जी की ओर से निरसा के साथ सिंदरी विधानसभा मासस को देने की बात कही गई थी।

टुंडी में टिकट को आमने-सामने जिलाध्यक्ष और पूर्व मंत्री

टुंडी विधानसभा सीट पर झामुमो पूर्व में जीत दर्ज कर चुकी है। इसी जीत के परिणाम स्वरूप हेमंत सोरेन के शासन काल में मथुरा प्रसाद महतो को मंत्री बनने का मौका मिला। ऐसे में इस सीट के लिए मथुरा प्रसाद महतो की प्रबल दावेदारी है। जबकि पार्टी जिलाध्यक्ष रमेश टुडू भी टुंडी से चुनाव लडऩे को काफी सक्रिय हैं। धनबाद से लेकर रांची तक भागदौड़ कर रहे हैं। टुडू का साथ देने के लिए आदिवासियों का संगठन सोनोत संताल समाज भी उठ खड़ा हुआ है।

सिंदरी में स्थिति साफ नहीं : यदि झामुमो सिंदरी से भी प्रत्याशी देती है तो उम्मीदवार को लेकर स्थिति साफ नहीं है। हालांकि इस सीट से भी कई लोगों ने अपनी दावेदारी की है। पार्टी सूत्रों की मानें तो सिंदरी से प्रबल दावेदारों में दो नाम सामने आए हैं। इनमें पार्टी उपाध्यक्ष मुकेश कुमार सिंह और डीएन सिंह के नाम शामिल है।

Posted By: Sagar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप