धनबाद, जेएनएन। नई सौर ऊर्जा नीति से अब शहरों-गांवों में घर-घर को पावर हाउस बनाया जा सकेगा, अगर किसी बिल्डिंग में सोलर पैनल लगे हैं और बिजली कनेक्शन भी लगा है, तो जब पैनल से बिजली उत्पादन जरूरत से कम होगा तो खंबे से बिजली आने लगेगी और जब पैनल में ज्यादा उत्पादन होगा तो वह नजदीकी ग्रिड में शिफ्ट हो जाएगी, जो बिजली ग्रिड को जाएगी, उसकी राशि बिजली बिल में समायोजित कर दी जाएगी। उपभोक्ता अगर चाहेंगे तो उन्हें इसका पांच रुपये प्रति यूनिट की दर से भुगतान भी किया जाएगा। घर की छत पर सोलर प्लांट लगाकर बनाई गई बिजली का आप व्यवसाय कर सकते हैं। अगर आपके जरूरत से अधिक बिजली उत्पादन हो रहा है तो आप बिजली विभाग से बात करके बिजली बेच सकेंगे। इसके लिए विभाग आपको लाइसेंस देगा।

घरों और प्रतिष्ठानों में लगे रूफ टॉप सोलर प्लांट की बिजली खरीदने के लिए झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) जिले में अलग-अलग जगहों पर आठ छोटे ग्रिड बनाएगा। इनमें से छह ग्रिड हीरापुर, सरायढेला, बैंक मोड़, जोड़ाफाटक, झरिया और धैया के राहरगोड़ा में बनेंगे। दो ग्रिडों की जगह भी जल्द तय कर ली जाएगी।

एक किलोवाट प्लांट से चार यूनिट बनेगी बिजलीः जेबीवीएनएल के अनुसार एक किलोवाट क्षमता के प्लांट से 4 यूनिट बिजली बनेगी। सोलर प्लांट के लिए सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक की धूप बिजली उत्पादन के लिए मुफीद साबित होती है। इन पांच घंटों में ही ज्यादा बिजली तैयार हो सकती है। औसत आकार के घरों या प्रतिष्ठानों में करीब चार किलोवाट क्षमता का प्लांट लगाया जा सकता है। यानी वहां 16 यूनिट तक सोलर बिजली तैयार हो सकती है। एक किलोवाट क्षमता का प्लांट लगाने में 72 हजार रुपये का खर्च आता है, हालांकि एक किलोवाट क्षमता का रूफ टॉप सोलर पावर प्लांट लगाने के लिए सरकार की ओर से 50 फीसदी सब्सिडी मिल रही है। मतलब प्लांट लगाने पर 36 हजार रुपये खर्च होंगे। इसमें सोलर पैनल, इनवर्टर, नेट मीटरिंग आदि शामिल होगा। सप्लाई लाइन भी कंपनी ही तैयार करेगी। बैटरी पर आनेवाला खर्च उपभोक्ता को उठाना होगा।

घरों में लगे सोलर पैनल की मदद से लोग अपने इस्तेमाल के बाद बची हुई बिजली सीधे जेबीवीएनएल को बेच सकेंगे। इसके एवज में उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 5 रुपये के हिसाब से भुगतान किया जाएगा। इस बिजली को इन छोटे ग्रिडों से विशेष सर्किट के जरिए जेबीवीएनएल के वितरण ग्रिड तक पहुंचाया जाएगा और वहां से उसकी अन्य जगह की जाएगी।

- राहुल पुरवार, एमडी जेबीवीएनएल

Posted By: Mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप