धनबाद, जेएनएन। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 24 मार्च को देश में लॉकडाउन किया। लॉकडाउन के कारण लोग अपने घरों में कैद हो गए और सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। फैक्ट्रियां बंद होने से मजदूरों को रोजगार छिन गया, जिसके कारण उनके सामने भूख की समस्या खड़ी हो गई। इसके बाद देश के महानगरों समेत अन्य राज्यों से मजदूरों का पलायन शुरू हुआ। फिलहाल देश के कई हिस्सों से मजदूर पैदल ही घर लौट रहे हैं। इन मजदूरों की सेवा को और व्यापक बनाने के लिए भाजपा ने वेबीनार के माध्यम से कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया।

धनबाद सांसद पीएन सिंह के मुताबिक, वेबिनार में झारखंड भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि पार्टी प्रवासी मजदूरों के पलायन के मुद्दे पर काफी गंभीर है। उन्होंने कहा कि राज्य की सरकार घर लौट रहे मजदूरों की सहायता करने में पूरी तरह विफल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा था कि कोई मजदूर पैदल ना चले। उनके लिए झारखंड सरकार व्यवस्था कर रही है। दूसरी ओर राज्य सरकार की तरफ से उनके लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई। सभी मजदूर अभी भी पैदल चल रहे हैं। इस तपती गर्मी में उनके खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं है।

हाईवे पर कोई रिलीफ कैंप सरकार ने नहीं लगाया है। वह किसी तरह ट्रक, ट्रेलर में लोड होकर आ रहे हैं। क्वारंटाइन सेंटर में भी व्यवस्था सही नहीं है। क्वारंटाइन किए गए लोग नाटकीय जीवन जी रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी अपनी ओर से इन लोगों के लिए व्यवस्था करें। हाईवे रिलीफ कैंप के जरिए पैदल मजदूरों को जरूरत के अनुसार भोजन, पानी, चप्पल इत्यादि उपलब्ध कराए। वेबिनार में बाबूलाल मरांडी, राज्य के सभी सांसद, सभी विधायक, सभी जिलाध्यक्ष, समेत प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य मौजूद थे।

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस