धनबाद, जेएनएन। जम्मू-कश्मीर स्टडी सेंटर धनबाद चैप्टर ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से जम्मू कश्मीर मुद्दे पर 14 नवंबर 1962 को अपने देश की संसद द्वारा लिए गए संकल्प तथा 22 फरवरी 1994 को सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव पर शीघ्रातिशीघ्र दृढ़ता से अमल करने की मांग की है। स्टडी सेंटर, भारतीय संसद द्वारा लिए गए इस संकल्प और पारित प्रस्ताव के आलोक में हर वर्ष पूरे देश में 22 फरवरी को संकल्प दिवस मनाता है। इसी क्रम में सोमवार को स्थानीय इंडस्ट्रीज और कॉमर्स एसोसिएशन के सभागार में संगोष्ठी आयोजित की गई और पुलवामा के शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इन दिवंगत शहीदों की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। 


धारा-370 खत्म करने की वकालत: संगोष्ठी की अध्यक्षता धनबाद चैप्टर के अध्यक्ष अनंत नाथ सिंह ने की। झारखंड के सचिव इंद्रजीत सिंह ने भारतीय संसद द्वारा पारित प्रस्ताव बढ़कर सुनाया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार धारा-370 और अनुच्छेद-35 ए को खत्म करने की व्यवस्था करे। सुरेंद्र अरोड़ा ने कहा कि सरकार को नीति और नियत दोनों स्पष्ट कर कठोर कदम उठाना ही पड़ेगा। पीडीपी के साथ सरकार बनाना भाजपा की सबसे बड़ा सामरिक भूल थी। नीरज कुमार प्रसाद ने कहा कि सरकार को रूस और श्रीलंका की तरह कठोर कदम उठाना चाहिए। सभा में बमशंकर राय ने 35 ए एवं 370 के हटाने में वैधानिक कठिनाइयों का जिक्र किया। कार्यकारी अध्यक्ष अरुण कुमार भंडारी और राज्य समिति के कोषाध्यश्र एपी सिंह ने अपने विचार व्यक्त किए। सुनील कुमार ने सभा का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन किया। 

संगोष्ठी में उपस्थिति: परमानंद ठाकुर, मनोज कुमार विश्वकर्मा, मनोरंजन कुमार वर्मा, केसरी कुमार, सुनील कुमार, जीतेंद्र पांडेय, अजय कुमार, अरविंद कुमार सिन्हा, अरुण कुमार, किरण सिंह, अभिजीत कुमार साधु। 

Posted By: mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस