जागरण संवाददाता, धनबाद : पीके राय, आरएस मोर, बीएसके कॉलेज मैथन के छात्रों सहित जिले के वे सभी मैट्रिक व इंटर के छात्र जो प्रायोगिक परीक्षा से वंचित थे। जैक के निर्णय के बाद उन छात्रों ने राहत की सांस ली है। अकेले इन तीन कॉलेजों के छह सौ से अधिक छात्र छात्राएं प्रायोगिक परीक्षा नहीं दे पाए थे। हालांकि जिले के अधिकांश स्कूल व कॉलेज के छात्रों की प्रायोगिक परीक्षा हो चुकी है। वही जैक बोर्ड के आदेश के बाद शुक्रवार से शुरू होने वाली प्रायोगिक परीक्षा की तैयारी स्कूल व कॉलेजों ने शुरू कर दी है गुरुवार को विद्यार्थियों को व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए सूचना दे दी गई। बकरीद के कारण बुधवार को शिक्षण संस्थान बंद होने के कारण गुरुवार को लैब तथा कक्षाओं की साफ-सफाई तथा सैनिटाइजेशन कराया गया।

झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अनुसार 23 से 26 जुलाई तक परीक्षा आयोजित होगी, साथ ही स्कूलों को निर्देश दिया गया है, कि वे जैक की वेबसाइट पर अपलोड कर देंगे, ताकि जल्द रिजल्ट जारी की जा सके। जिला स्कूल के प्राचार्य राजेश कुमार ने कहा कि हमारे स्कूल में कुछ भी बच्चे प्रैक्टिकल से वंचित रह गए थे। जिसकी वजह से भीड़ की स्थिति नहीं होगी। गुरुवार को लैब सैनिटाइजेशन करा दिया गया है, और विद्यार्थियों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा देने की व्यवस्था की गई है बताते चलें कि जैक बोर्ड ने निर्देश में कहा है कि प्रयोगशाला का की कुल निर्धारित सीटों पर 25 फ़ीसदी छात्रों को एक पाली में बुलाएं। प्रायोगिक परीक्षा प्रत्येक दिन चार पाली में ली जाएगी। प्रत्येक पाली का समय एक घंटे का होगा। दो पाली के बीच आधे घंटे का अंतर रखना अनिवार्य होगा, ताकि परीक्षार्थी की भीड़ एक साथ एकत्रित नहीं हो सके। धनबाद जिले की बात करें तो इंटर में 24101 छात्र-छात्राओं तथा मैट्रिक में 29,816 छात्र छात्राओं के प्रैक्टिकल का अंक जमा किया गया है। यह माना जा रहा है, कि कई स्कूल कॉलेजों में लॉकडाउन में भी चुपके से छात्र-छात्राओं का प्रैक्टिकल कराया। जिसके कारण धनबाद जिले में बहुत कम संख्या में छात्र-छात्राएं प्रैक्टिकल के लिए बचे हैं।

Edited By: Atul Singh