धनबाद, जेएनएन : झाड़ूडीह पॉलीटेक्निक रोड निवासी कर्नल जेके सिंह लगातार 10 वर्ष से गणतंत्र दिवस परेड की कमेंट्री करते आ रहे हैं। इसबार भी इनका चयन हुआ है और कमेंट्री करते हुए यह 11वां वर्ष होगा। इससे पहले कर्नल शुक्रवार को आर्मी डे (सेना दिवस) परेड की कमेंट्री करते हुए नजर आएंगे।

धनबादवासी सुबह साढ़े दस बजे से दूरदर्शन पर लाइव कमेंट्री देख पाएंगे। यह परेड राजपथ पर होगा। गणतंत्र दिवस के रिहर्सल के तौर पर इस परेड को जोड़कर देखा जाता है। कर्नल इस समय नई दिल्ली में है। उन्होंने बताया कि गणतंत्र दिवस परेड में थल सेना भी शामिल होती है।

शुक्रवार को होने वाले परेड में सेना के टैंक, आर्मी एयर डिफेंस, तापखाना और सेना की टुकड़ियां शामिल होंगी। इस दौरान बहादुरी और विशिष्ट पुरस्कार भी दिया जाएगा। कुछ यूनिटों को उत्कृष्ट कार्य करने पर पुरस्कृत किया जाएगा। मरणोपरांत भी कुछ पुरस्कार दिए जाएंगे। इसकी अध्यक्ष थलसेना अध्यक्ष करेंगे। सेनाध्यक्ष परेड का निरीक्षण करेंगे। सेना की कई टुकड़ियां सलामी देंगी। बैंड का दस्ता भी रहेगा। सेना के जवान मोटरसाइकिल पर करतब दिखाएंगे।

आर्मी डे के बाद 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड, 28 जनवरी को प्रधानमंत्री रैली एवं एनसीसी परेड और 29 जनवरी को बीटिंग रिट्रीट के साथ-साथ 31 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड समापन समारोह (थल सेनाध्यक्ष बड़ा खाना) की भी कमेंट्री कर्नल जेके सिंह करेंगे। यहां बता दें कि कर्नल जेके सिंह झारखंड एसटीएफ के एसपी पद पर कार्यरत हैं। 

दो माह पहले से शुरू कर दी थी तैयारी

कर्नल जेके सिंह को पूरा यकीन था कि कमेंट्री के लिए इस बार भी उनका चयन होगा। पॉलीटेक्निक रोड निवासी कर्नल जेके की पत्नी नीतिका सिंह ने बताया कि ऐसे राष्ट्रीय कार्यक्रम से दो महीने पहले से पति की हर गतिविधि पर ध्यान देना पड़ता है, खासकर खानपान। इस दौरान अपनी दैनिक कसरत दोगुनी कर देते हैं। जिससे शरीर और मन दोनों राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन करने के लिए पूरी तरह से तैयार रहे। दरअसल कर्नल को कमेंट्री करने का सुझाव पत्नी नीतिका ने ही दिया था। कर्नल ने बताया कि वो हर बार कुछ नया करने का प्रयास करते हैं। नया तेवर और कलेवर लाने के लिए पूरे वर्ष प्रयत्न करते हैं। कर्नल सिंह ने कवित्व भावनाओं के साथ कहा - रख न अभी हथियार लड़ाई बाकी है, रह चौकस होशियार लड़ाई बाकी है। निर्णय लेना शेष अभी बाकी है, अभी जीत या हार लड़ाई अभी बाकी है।

Edited By: Atul Singh