जागरण संवाददाता, धनबाद: सीमेंट सहित अन्य निर्माण सामग्रियों की बढ़ती कीमतों का दुष्प्रभाव जिला में विधायक और सांसद निधि से हो रहे विकास कार्यों पर भी पड़ा है। इस कारण जनप्रतिनिधियों द्वारा अनुशंसित योजनाओं का काम पिछले आठ महीनों से रुका हुआ है। क्योंकि सीमेंट और अन्य निर्माण सामग्रियों की आपूर्ति करनेवाली कंपनियों ने सरकार द्वारा निर्धारित दर पर सामानों की आपूर्ति करने से इंकार कर दिया है। वहीं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी राज्य सरकार से मिलने वाले निर्देश का इंतजार कर रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य स्तरीय समिति ही समीक्षा के बाद नया दर निर्धारण कर सकती है।

इसी बीच विभाग से मिली जानकारी के अनुसार ग्रामीण इलाकों में बनने वाले सड़कों, नालों, विद्यालय भवन के निर्माण सहित अन्य सिविल कार्य नहीं हो पा रहे हैं। हालांकि इन कार्यों को समय पर पूरा कराने के लिए जिला विकास शाखा द्वारा पिछले वित्तिय वर्ष से लेकर अभी तक सीमेंट आपूर्ति हेतू तीन तीन बार निविदा निकाली गई। लेकिन हर बार सिंगल बिड होने और निर्धारित रेट से अधिक दर पर कोटेशन होने से उसे रद्द कर दिया गया। क्योंकि कंपनियों ने निर्धारित सरकारी दर 250 रूपये पर सीमेंट देने से ना केवल इंकार कर दिया। बल्कि कंट्रोल दर बढ़ाकर 325 रूपये कर दिया। जिसके बाद से जिला विकास विभाग ने पत्र लिख कर राज्य मुख्यालय से इस संबंध में दिशा निर्देश मांगा है। अब नये दर निर्धारण तक ये सभी काम बाधित रहेंगे। काम बाधित होने से सबसे ज्यादा असर टुंडी विधायक मथुरा महतो द्वारा अनुशंसित योजनाओं पर पड़ा है। जिनकी चार करोड़ रुपये से ज्यादा की याेजना अटक गई है। जबकि सांसद पीएन सिंह अनुशंसित 90 लाख के काम रुके पड़े हैं।

इस बारे में पूछे जाने पर उप विकास आयुक्त शशि प्रकाश सिंह ने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग के राज्य मुख्यालय को स्थिति से अवगत करा दिया गया है। विभागीय सचिव ने जल्द बैठक बुलाकर नया दर निर्धारित करने की बात कही है। फैसला होते ही कामों को तीव्र गति से पूरा कराने की कोशिश की जाएगी।

इनकी अनुशंसित योजनाओं का काम हुआ है बाधित

  • टुंडी विधायक मथुरा महतो 4 करोड़ रुपये का कार्य
  • सिंदरी विधायक इंद्रजीत महतो 2.5 करोड़ रुपये का कार्य
  • झरिया विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह 1.5 करोड़ रुपये का कार्य
  • धनबाद विधायक राज सिन्हा 70 लाख का कार्य
  • निरसा विधायक अपर्णा सेनगुप्ता 60 लाख का कार्य
  • सांसद पीएन सिंह 90 लाख का काम

Edited By: Atul Singh