धनबाद : आइआइटी आइएसएम के 93वें साल पर संस्थान ने शानदार जश्न की तैयारी की है। इसबार होने वाले जश्न पर न केवल प्रोफेसर और छात्र बल्कि कर्मचारियों का भी भरपूर सम्मान मिलेगा। स्थापना दिवस के अवसर पर सिल्वर जुबली पूरा करने वाले 42 कर्मियों को पुरस्कृत किया जाएगा। बतौर मुख्य अतिथि के रूप में फेटपाइप नेटवर्क यूएसए के अध्यक्ष व सीईओ डॉ. रगुला भास्कर मौजूद रहेंगे। गोल्डन जुबली हॉल में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में पूरा आइएसएम परिवार जिसमें प्रोफेसर, कर्मचारी, छात्र सभी सुबह और दोपहर खाने की मेज पर एक दूसरे मिलेगें। इस दौरान मुख्य अतिथि का भाषण, अवार्ड वितरण सहित अन्य कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मौके पर उप निदेशक प्रो. जेके पटनायक, प्रो. धीरज कुमार, प्रो. एमके सिंह, डा. पी माथूर, सुभाशीष चटर्जी, प्रो. चिरंजीव कुमार उपस्थित थे।

---------------------

इन्हें किया जाएगा सम्मानित

- 42 संकाय सदस्यों और कर्मियों को दीर्घ सेवा के लिए किया जाएगा पुरस्कृत

- वर्ष 2015-16 तथा 16-17 के लिए माइनिंग इंजीनिय¨रग के प्रो. डीसी पाणिग्रही को इस्मा बेस्ट रिसर्चर अवार्ड

- वर्ष 2014-16 के लिए सर्वाधिक पीएचडी पर्यवेक्षण के लिए पर्यावरण इंजीनिय¨रग विभाग के प्रो. गुरदीप सिंह व अप्लाईड केमेस्ट्री के प्रो. महेंद्र यादव को इस्मा अवार्ड

- उद्योग प्रायोजित परियोजना के माध्यम से अधिकतम फंडिंग के लिए प्रो. डीसी पाणिग्रही तथा प्रो. धीरज कुमार को एसबीआइ सर्वश्रेष्ठ शोधकर्ता पुरस्कार

- पेट्रोलियम, माइनिंग, पर्यावरण, मिनरल, मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान इंजीनिय¨रग विभाग के छह शोध छात्रों को इंटर मोहन थापर अनुसंधान अवार्ड

- इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनिय¨रग विभाग के जूनियर रिसर्च को अनुसंधान प्रकाशन पुरस्कार माली और मजदूर को भी मिलेगा सम्मान

-------

माली और मजदूर भी होंगे सम्मानित

आइएसएम अपने स्थापना दिवस के मौके पर संस्थान में अपना योगदान देने वाले उन लोगों को भी सम्मानित करेगा जो इसके हकदार है। स्थापना दिवस के मौके पर आठ मजदूर, तीन माली, दो चपरासी, लैब एटेंडेंट को भी उनके बेहतर कार्य के लिए सम्मानित किया जाएगा।

----

आइएसएम ही नहीं बाहरी लोगों को भी एमओयू का लाभ

आइआइटी आइएसएम के स्थापना दिवस के मौके पर शोध व शैक्षणिक क्षेत्रों में सहयोग के लिए आइएसएम व आइबीएम के बीच एमओयू भी किया जाएगा। इस दौरान आइबीएम के लीडर एकेडमिक पार्टनरशिप अनुका कुमार मौजूद रहेंगे। आइबीएस एडूकेशन सेल के साथ होने वाले इस एमओयू का लाभ न केवल संस्थान को मिलेगा बल्कि औद्योगिक कंपनियां और बाहरी छात्र-छात्राओं को भी मिलेगा। दरअसल इस एमओयू के बाद आइबीएम से आइएसएम मेटेरियल लेगा फिर उसे अपने स्तर से विकसित करेगा ताकि इसका लाभ औद्योगिक और बाहरी लोगों तक पहुंचाया जा सके।

आइएसएम से रूबरू होंगे स्कूली छात्र

आइआइटी आइएसएम के स्थापना दिवस पर शहर के कई स्कूलों के बच्चे आइएसएम से रूबरू होंगे। ये सुबह दस बजे से 12.30 तक आइएसएम के विभिन्न विभागों के प्रयोगशाला, म्यूजियम तथा संस्थान के कुछ महत्वपूर्ण चीजों को न केवल देखेंगे बल्कि उसके इतिहास के बारे में भी जानेंगे।

Posted By: Jagran