जासं, मैथन/पंचेत : चिरकुंडा स्थित एचडीएफसी बैंक के ऋण घोटाले का जिन्न एक बार फिर से निकला है। पुलिस ने इस घोटाले में संलिप्त प्राथमिक अभियुक्त के साथ पांच से छह लोगों को अप्राथमिक अभियुक्त बनाते हुए नोटिस जारी किया प्राथमिक अभियुक्तों को अपना पक्ष न्यायालय या जांच अधिकारी के पास रखने का आदेश जारी किया गया है जिसके कारण हड़कंप मचा है। जानकारी हो कि पिछले साल एचडीएफसी बैंक में हुए महिला स्वयं सहायता ग्रुप के ऋण घोटाले में बैंक के रिलेशनशिप प्रबंधक अमन कुमार सहित अन्य ने मिलकर ऋणदाताओं को भुगतान के बजाय रकम डकार लिया । खबर प्रकाशित होने के बाद करीब दर्जनों महिलाओं ने बैंक में शिकायत की। जांच के बाद पाया कि महिला स्वयं सहायता समूह के नाम से जारी लोन की रकम उनके नाम से उठा लिया गया। महिलाओं को लोन का भुगतान प्राप्त नहीं हुआ। हंगामे के बाद बैंक ने अंतरिम जांच में पाया कि कुल 49 महिला समूहों की 118 महिलाओं के नाम पर 32 लाख 60 हजार रकम की निकासी की गई। इसके खिलाफ 14 फरवरी 2020 को क्लस्टर प्रमुख प्रवीण एस कुमार ने चिरकुंडा थाना में रिलेशनशीप प्रबंधक अमन कुमार के खिलाफ मामला दर्ज कराया। चिरकुंडा पुलिस ने जांच के बाद कांड संख्या 036/20 के तहत 406,409,420,467,448,471,120 बी 34 आईपीसी के तहत अन्य चार पांच के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इधर पुलिस को जांच के दौरान 5-6 पूर्ववर्ती कर्मचारियों की भी मिली भगत सामने आई । इसके बाद पुलिस ने नोटिस जारी जांच अधिकारी अथवा न्यायालय के समक्ष उपस्थित होने का आदेश जारी किया है । इससे जांच की जद में आए लोगों के बीच हड़कंप मचा हुआ है ।

Edited By: Atul Singh