संस, तिसरा-चासनाला : बस्ताकोला क्षेत्र की घनुडीह सीकेडब्ल्यू साइडिंग में शुक्रवार की रात आठ बजे पाथरडीह रेलवे यार्ड से 59 बक्सा का खाली रैक लेकर मालगाड़ी आ रही थी। इसी दौरान मालगाड़ी के रैक का गार्ड रूम अचानक पटरी से उतर गया। 40 वर्षीय गार्ड मनीष कुमार नीचे गिर पड़े। पैर फंसने के कारण कुछ दूरी तक रैक के साथ घिसटते चले गए। इसकी वजह से गंभीर रूप से घायल होकर बेहोश हो गए। रेल कर्मचारियों ने पाथरडीह के रेलवे अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया लेकिन स्थिति चिंताजनक होने के कारण उन्हें धनबाद के मुख्य रेलवे अस्पताल में रेफर कर दिया गया। इलाज के दौरान ही उनकी मौत हो गई। उनके सहयोगी रेलवे कर्मचारियों ने कहा कि गार्ड मनीष का आवास पाथरडीह रेलवे कालोनी में है। तीन दिन पहले ही वो अपने पैतृक गाव बिहार से आए थे। घटना की सूचना पाकर पत्नी समेत परिवार के लोग शोक में डूब गए।

सीके डब्ल्यू साइडिंग के इंचार्ज अजय रजक ने बताया कि रात करीब आठ बजे दुर्घटना की सूचना मिली। इसकी जानकारी रेलवे के अधिकारियों को दी गई। साइडिंग व रेलवे के कर्मचारियों का कहना है कि घटना बीसीसीएल प्रबंधन की लापरवाही से हुई। रेलवे लाइन पानी से भरा हुआ था। बावजूद प्रबंधन लोड रैक व खाली रैक एक साथ सीके साइडिंग में लगाता रहा। कुछ लोग इसका दोषी रेलवे प्रबंधन को भी मान रहे हैं। उनका कहना है कि बारिश में एक साथ दो काम नहीं करना चाहिए था। अधिक रैक डिस्पैच की जल्दीबाजी में यह घटना घटी है। इसकी उच्चस्तरीय जाच कर दोषी पर कार्रवाई होनी चाहिए। धनबाद रेलवे के पीआरओ एके मिश्रा ने बताया कि गार्ड मनीष कुमार हेड क्वार्टर में कार्यरत थे। उनकी गंभीर अवस्था में धनबाद रेलवे अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। घटना की जाच की जा रही है। दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran