झरिया, जेएनएन : राज्य के विभिन्न जिलों में  स्वास्थ्य सेवा के तहत  कार्य कर रहे  बीटीटी  का फिलहाल स्थानांतरण नहीं होगा यह बातें  झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री  बन्ना गुप्ता ने  गुरुवार को  झरिया धनबाद और राज्य के  विभिन्न क्षेत्रों से  पहुंचे बीटीटी  प्रतिनिधिमंडल  से कहीं। 

 यह जानकारी  देवघर के बीटीटी अभिषेक ठाकुर ने दी । प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व  निरसा के पूर्व विधायक  अरूप चटर्जी कर रहे थे । बीटीटी  अभिषेक ने कहा कि  अप्रेजल के नाम पर राज्य के बीटीटी को कार्यमुक्त करने व स्थानांतरण के खिलाफ पूर्व विधायक अरूप चटर्जी के नेतृत्व में राज्य भर के बीटीटी स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता से मिलकर अपनी फरियाद बुधवार को रखी । 

 बन्ना गुप्ता खुद प्रतिनिधिमंडल से आकर मिले। उनकी समस्या सुनी। विभाग के एमडी को गुरुवार को बुलाकर बातचीत कर समस्या का समाधान करने की बात कही। बीटीटी अभिषेक ठाकुर, विकास पंडित ने बताया कि  अप्रेजल एक प्रक्रिया है जो प्रत्येक वर्ष होता है। लेकिन इस बार अप्रेजल के नाम पर 56 बीटीटी को स्थानांतरण दूसरे जिले में करने की साजिश रची जा रही थी।

 जबकि नौ बीटीटी  को कार्य मुक्त कर दिया। यह गलत है धनबाद से पहुंचे बीटीटी ने बताया कि जिले में 27 बीटीटी कार्यरत हैं। इनमें 11 बीटीटी को दूसरे जिला में स्थानांतरण कर दिया गया। हम लोग मात्र आठ हजार वेतन में इतने दूर कैसे काम करने जाएंगे ।

 इनमें से अधिकांश महिलाएं हैं। उतना दूर जाकर काम कर पाना मुश्किल है । विभाग बीटीटी को हटाने की साजिश कर रही है। तीन दिनों से दर्जनों बीटीटी रांची में थे। निरसा के पूर्व विधायक को जब इसकी सूचना मिली तो उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री से इनकी समस्या को लेकर बात की। अरूप चटर्जी ने कहा कि यदि समस्या का समाधान नहीं होगा तो पूरे राज्य के 586 बीटीटी को लेकर जोरदार आंदोलन करेंगे। इसके बाद विभाग गंभीर हुआ। मौके पर सोनी देवी, सुलेखा देवी, मीना देवी, विकास कुमार पंडित, अर्जुन मोदी, सुलेखा प्रसाद, गीता देवी, अनिता देवी, डिंपल खातून, सुनीता उरांव, सुमित्रा देवी, रेखा कुमारी, संगीता बक्शी, गुणाधर पंडित, शांति देवी, सविता देवी आदि थे ।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021