धनबाद, जेएनएन। ट्यूशन की पढ़ाई के दाैरान दो छात्र-छात्रा के बीच मोहब्बत हो गई। बाली उमर की मोहब्बत में लोक-लाज से बेपरवाह दोनों ने शारीरिक संबंध भी बना लिए। इसके बाद बात बिगड़ी तो दोनों परिवारों के बीच ठन गई। लड़की के परिजनों ने नाबालिग प्रेमी पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए थाने में शिकायत की। बचने के लिए प्रेमी ने शादी का प्रस्ताव दिया है। अब पुलिस परेशान है। करें तो क्या करें? कानून नाबालिग की शादी की इजाजत नहीं देता है।

निरसा के एक नाबालिग किशोर पर क्षेत्र की ही नाबालिग लड़की ने दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। किशोरी ने बताया कि आरोपित किशोर से ट्यूशन पढऩे के दौरान उसकी दोस्ती हुई थी। दोनों की दोस्ती जल्द ही प्यार में बदल गई। इसका फायदा उठाकर आरोपित ने युवती को मजबूर कर उससे शारीरिक संबंध स्थापित कर लिया। किशोरी के परिजनों को जब मामले की जानकारी हुई, तो उन्होंने इसका विरोध किया और आरोपित किशोर को खरी-खोटी सुनाई। किशोरी के परिजनों की फटकार से नाराज किशोर के भाई ने पीडि़ता को चरित्रहीन करार दिया, तो आरोपित ने भी उससे संबंध तोड़ लिया।

नाबालिग पीडि़ता मंगलवार को अपने परिजनों के संग धनबाद महिला थाना पहुंची और घटना की लिखित शिकायत की। शिकायत में पीडि़ता ने बताया कि आरोपित किशोर ने उससे प्यार की बात कहकर उससे शारीरिक संबंध स्थापित किया था। जब पीडि़ता ने इसका विरोध किया तो किशोर ने उसे बहला फुसला कर कहा कि प्यार ऐसे ही होता है। पीडि़ता के परिजनों के अनुसार आरोपित युवक का उसके घर भी आना-जाना था। परिजनों की अनुपस्थिति में वह पीडि़ता के घर पहुंचता और उसे जबरन शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर करता। इधर थाना पहुंचे आरोपित युवक व उसके भाई का कहना था कि दोनों के बीच संबंध आपसी रजामंदी से बने थे। आरोपित युवक के भाई ने बताया कि छात्रा और उसके भाई के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। इसमें जोर-जबर्दस्ती का आरोप निराधार है। हालांकि स्वयं को फंसता देख आरोपित युवक ने थाना में पीडि़ता से शादी करने की बात कही। इधर पीडि़ता द्वारा मामले की लिखित शिकायत मिलने के बाद पुलिस जांच में जुट गई है। पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया यह मामला प्रेम प्रसंग का है, लेकिन दोनों के नाबालिग होने के कारण पुलिस पेशोपेश में है, क्योंकि नाबालिगों की शादी कानूनन वैध नहीं है।

Posted By: Mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप