धनबाद, जेएनएन। झाविमो नेताओं की भाजपा में घर वापसी ऐसे मौके पर हुई है, जब संगठन में चुनाव की प्रक्रिया चल ही रही है। सवाल है कि अभी-अभी आए इन सदस्यों में कितनों को तरजीह मिलेगी। बाबूलाल मरांडी को तो पार्टी में महत्वपूर्ण दायित्व देने का आश्वासन भाजपा केंद्रीय नेतृत्व ने दे दिया है, पर अन्य नेताओं-कार्यकर्ताओं का भविष्य दांव पर है।

भाजपा के संगठन चुनाव प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण दौर सक्रिय सदस्यता का है जो समाप्ति पर है। भाजपा में किसी भी मुद्दे पर वोटिंग का अधिकार इन्हें ही है। घर वापसी करने वाले नेताओं को सक्रिय सदस्यता न मिली तो संगठन में कोई महत्वपूर्ण पद मिलना भी मुश्किल होगा।

भाजपा के जिला पदाधिकारी भी इस उधेड़बुन में हैं कि इनके लिए कौन सी प्रक्रिया अपनाई जाएगी। सक्रिय सदस्यता की अपनी कुछ शर्तें और मानदंड हैैं। वे चाहें भी तो बिना केंद्र या प्रदेश के निर्देश के नए नवेले कार्यकर्ताओं को सक्रिय सदस्य नहीं बना सकते।

सक्रिय सदस्य बनने की अर्हता :

  • कम से कम पांच साल से पार्टी के प्राथमिक सदस्य हों।
  • सदस्यता अभियान के दौरान कम से कम 25 प्राथमिक सदस्य बनाए हों।

कैसे बनेंगे सक्रिय सदस्य :

  • उपरोक्त अर्हता पूरी करने वाले कार्यकर्ता 200 रुपये शुल्क देकर सक्रिय सदस्य बन सकते हैैं।
  • इनमें 100 रुपये अंत्योदय पत्रिका व 100 रुपये सदस्यता के लिए होता है।

सदस्यता क्यों जरूरी :

  • क्योंकि जरुरत पडने पर वोटिंग का अधिकार सक्रिय सदस्यों के पास ही रहता है।
  • मंडल अध्यक्ष चुनने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सक्रिय सदस्य ही पदाधिकारी या कार्यसमिति सदस्य बन सकते हैैं।
  • 19 फरवरी को जिले के सभी 35 मंडलों का अध्यक्ष चुनने को होने वाली है रायशुमारी।

हम बाबूलाल के समर्थक : झाविमो के पूर्व केंद्रीय महासचिव रमेश कुमार राही ने कहा कि हम बाबूलाल के समर्थक हैं। उनके साथ भाजपा की सदस्यता ले ली। विलय के लिए कोई शर्त नहीं रखी गई। पार्टी इतने बड़े पैमाने पर विलय करा रही है तो इस विषय में कुछ जरूर सोचा गया होगा।

सक्रिय सदस्यता के लिए विशेष अभियान : भाजपा के जिला अध्यक्ष चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि पार्टी की सदस्यता लेने वालों को पूरा सम्मान दिया जाएगा। यह घोषणा केंद्रीय गृह मंत्री ने प्रभात तारा मैदान में की है। संभव है इन्हें सक्रिय सदस्यता को विशेष अभियान चलाया जाए।

Posted By: Sagar Singh

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस