धनबाद, जेएनएन: इस बार करोना काल में महामारी उफान पर था। कोरोना से लोग मर रहे थे। घर में रहने के लिए लोग विवश थे। ऐसे हालात में भी प्रेम के दीवाने सोशल मीडिया के माध्यम से हो या फिर अन्य माध्यम से अपनी प्रेम लीला को जारी रखे हुए थे। 

 वैसे कुछ लोगों का प्रेम इस कदर परवान चढ़ा कि उसमें से कुछ लोग परिणय सूत्र में भी बन गए। हालांकि कुछ को निराशा भी हाथ लगी। धनबाद में ही इस बार के लॉकडाउन में 37 जोड़ी प्रेमी प्रेमिका ने स्वजनों के विरोध के बावजूद घर से भागकर शादी की और बाद में महिला थाना में सरेंडर कर दिया। 37 जोड़ें की शादी तो पुलिस को पच गई। कई लोगों को पुलिस ने हंसी खुशी थाना परिसर में स्थित एक शिव मंदिर में शादी करवा कर घर भेजा लेकिन पांच जोड़ी ऐसी भी थे। जिनकी शादी ना तो कानून मान्यता दे सकता था ना ही समाज उसे कबूल कर सकता था। ऐसे 5 जोड़ी प्रेमी प्रेमिका को बड़ी निराशा हुई। महिला थाना से प्राप्त आंकड़े के अनुसार 2 मार्च 2020 से 20 जून 2020 तक 41 जोड़े घर से भागकर कहीं मंदिर में तो कहीं न्यायालय में शादी घर महिला थाना में सरेंडर के लिए पहुंचे थे। जिसमें 37 जोड़ी कपल का प्रेम परिणय सूत्र में बंध सका। हालांकि इसमें भी कई तरह के विरोध उन प्रेमी- प्रेमिका को झेलना पड़ा। कोरोना को लेकर सड़क सुरक्षा सप्ताह में जहां उद्योग व्यवसाय ठप रहा, लॉकडाउन के कारण लोग को घर में रहने के लिए विवश थे। ऐसे में भी प्रेम के पुजारी कोरोना को मात देकर बगैर ढोल नगाड़े के ही परिणय सूत्र में बंध गए।

Edited By: Atul Singh