धनबाद, [आशीष सिंह]। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण विश्वभर में खेल प्रतियोगिताएं स्थगित हैं। खिलाड़ी अपने घर पर रहते हुए खुद को कैसे फिट रखें, इसके लिए इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ मुएथाई एसोसिएशन (ईफमा) के महासचिव स्टेफन फॉक्स ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विश्व के सभी देशों के राष्ट्रीय मुएथाई फेडरेशन को निर्देश जारी किया है। इसमें राष्ट्रीय स्तर पर ई-मुएथाई प्रतियोगिता आयोजित कर राष्ट्रीय टीम गठित करने की बात कही है। इसका उद्देश्य पहली बार होने जा रहे विश्व ई-मुएथाई प्रतियोगिता में खिलाडिय़ों की प्रतिभागिता सुनिश्चित करना है।

यह सब मुएथाई के ट्रैक पर नहीं, बल्कि एप पर होगा। खिलाड़ी ऑनलाइन अपने हुनर का प्रदर्शन करेंगे। झारखंड मुएथाई संघ के महासचिव और यूनाइटेड मुएथाई फेडरेशन के उपाध्यक्ष अनुपम माहता ने बताया कि जूम एप के माध्यम से राज्य के सभी जिले के महासचिव तथा मुएथाई प्रशिक्षकों को निर्देश दिया कि अपने-अपने खिलाडिय़ों से संपर्क कर झारखंड की प्रथम ई-मुएथाई प्रतियोगिता में भाग लें। इसमें दो इवेंट होंगे। पहला ई-वाई करु तथा दूसरा ई-मुए एरोबिक्स। खिलाड़ी अपने घर पर रहकर प्रति इवेंट दो मिनट की वीडियो रिकॉर्ड कर एसोसिएशन के रैफरी कमीशन को मेल करेंगे। यह 16 मई तक करना है। राज्य में 750 मुएथाई के खिलाड़ी हैं।

राष्ट्रीय ई-मुएथाई के लिए हर राज्य से 24 खिलाड़ी होंगे चयनित : अनुपम माहता के अनुसार, ई-मुएथाई की आठ श्रेणियों के लिए वीडियो अपलोड और मेल किए जाएंगे। इसमें अंडर-10, 12, 14, 16, 18, 21, 23 और 23 आयु वर्ग से उपर की श्रेणी शामिल है। अपलोड और मेल किए गए वीडियो में से बेहतर का चयन होगा। हर श्रेणी में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय का चयन कर ई-सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इस तरह प्रत्येक राज्य से आठों श्रेणियों में 24 खिलाड़ी चयनित होंगे। ये सभी राष्ट्रीय ई-मुएथाई प्रतियोगिता में प्रदर्शन करेंगे। यहां से गोल्ड मेडल पाने वाला खिलाड़ी ही अंतरराष्ट्रीय ई-मुएथाई प्रतियोगिता में शामिल होगा। फिलहाल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता की तिथि घोषित नहीं की गई है।

क्या है मुएथाई : मुएथाई थाईलैंड मार्शल आर्ट है। यह कराटे, जूडो और किक बॉक्सिंग की तरह खेला जाता है। इसमें दो खिलाड़ी होते हैं। दो और तीन मिनट का खेल होता है। वाई करु एवं मुए एरोबिक्स दो मिनट और फाइटिंग तीन मिनट का है। इसी में जीत-हार तय होती है। इसमें ग्रेडिंग मिलती है, जिसे 'खानÓ कहते हैं। वाइट, ग्रीन, ब्लू, रेड खान ग्रेडिंग के बाद गोल्डन खान की उपाधि मिलती है। गोल्डन खान सर्वश्रेष्ठ होता है।

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस