धनबाद, जेएनएन। राष्ट्रीय खेल घोटाले में पूर्व मंत्री बंधु तिर्की की गिरफ्तारी के बाद झाविमो प्रमुख पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन हैरान-परेशान हैं। इस कार्रवाई को दोनों नेता झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले विपक्षी नेताओं के अंदर खौफ पैदा करने की सत्ताधारी भाजपा की कवायद के रूप में देख रहे हैं। बदली परिस्थिति में मरांडी और सोरेन ने गुरुवार सुबह धनबाद सर्किट हाउस के बंद कमरे में करीब 35 मिनट तक गूफ्तगू की। कमरे से बाहर निकलने के बाद मरांडी ने कहा-भाजपा सत्ता के बदल पर विपक्ष का दबाना चाहती है।

चाय पर की राजनीतिक चर्चाः झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन बदलाव यात्रा पर हैं। इसी क्रम में वह बुधवार की रात धनबाद सर्किट हाउस में ठहरे थे। जबकि झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी धनबाद कोर्ट में एक मामले में पेश होने के लिए बुधवार की रात सर्किट हाउस पहुंचे। जब बाबूलाल और हेमंत को गुरुवार सुबह यह जानकारी मिली कि दोनों एक ही सर्किट हाउस में ठहरे हुए तो मिलने से नहीं रोक पाए। हेमंत अपने कमरे से निकल कर बाबूलाल के कमरे में पहुंचे। दोनों ने एक-दूसरे के साथ चाय पी। फिर समर्थकों को बाहर निकलने का इशारा किया। इसके बाद बंद कमरे के अंदर दोनों ने अकेले गूफ्तगू की। जब कमरे से बाहर निकलने पर मीडिया के सवालों से सामना हुआ तो हेमंत ने कहा-यह शिष्टाचार मुलाकात थी।

भय का माहाैल बना रही भाजपा सरकारः झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने मुस्कुराते हुए कहा-जब दो राजनीतिक लोग मिलते हैं तो राजनीति की बातें होती ही है। राज्य के वर्तमान हालात पर चर्चा हुई। उन्होंने झाविमो महासचिव बंधु तिर्की की गिरफ्तारी का उदाहरण देते हुए कहा कि भाजपा सरकार विपक्ष का दबाना चाहती है। बंधु तिर्की कोई चोर या भगोड़ा नही था। इस गिरफ्तारी के माध्यम से सरकार एक भय का माहौल बना रही है। सभी दलों को मिलकर इससे निपटने की कोशिश करनी होगी।

सयम पर साफ होगी गठबंधन की तस्वीरः झारखंड में महागठबंधन की रूपरेखा के संबंध में उन्होंने कहा कि समय आने पर सारी स्थिति साफ कर दी जाएगी। कांग्रेस से गठबंधन पर कहा कि अभी तक बच्चा ही पैदा नही हुआ है तो नामकरण कैसे कर दिया जाए?

Posted By: Mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप