धनबाद : केंद्रीय खनन एवं ईधन अनुसंधान संस्थान (सिंफर) की जमीन पर चल रहे डिनोबिली सीएमआरआइ स्कूल का करार रद हो सकता है। अगर ऐसा हुआ तो स्कूल संचालन के लिए नई जगह तलाशनी होगी। सिंफर ने वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) की अनुमति से शहर के बीचोबीच लाखों की जमीन स्कूल संचालन के लिए दी थी। इसके लिए एमओयू भी हुआ था जिसमें स्पष्ट है कि नो प्रॉफिट, नो लॉस के तहत स्कूल का संचालन होगा। पर, स्कूल प्रबंधन लगातार शुल्क बढ़ोत्तरी करता रहा है। यहां पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों के मुताबिक इस वर्ष भी शुल्क बढ़ोत्तरी हुई है। इससे नाराज सिंफर प्रशासन ने स्कूल प्रबंधन को करार रद करने की चेतावनी दी है। इस मामले में स्कूल के प्राचार्य को कई बार कॉल करने के बाद भी उन्होंने रिसीव नहीं किया।

गरीब बच्चों की पढ़ाई के लिए वैज्ञानिक संस्थान ने डिनोबिली को दी थी जगह

सिंफर प्रबंधन ने 1970 के दशक में वर्तमान डिनोबिली स्कूल की जमीन पर निश्शुल्क विद्यालय की शुरुआत की थी। उस विद्यालय में संस्थान के कर्मचारियों के साथ-साथ अन्य जरुरतमंद लोगों के बच्चों का भी दाखिला होता था। बाद में डीनोबिली स्कूल संचालन को वह जमीन और भवन दे दिया गया। इसके लिए सिंफर और डीनोबिली के बीच करार भी हुआ।

क्या चाहते हैं सिंफर निदेशक

सिंफर निदेशक डॉ. प्रदीप सिंह चाहते हैं कि स्कूल में जरुरतमंद परिवार के बच्चों के लिए दाखिले की राह आसान हो। सैंकड़ों फॉर्म भराकर स्कूल अपनी जेब भरने के बजाय ऐसे बच्चों को प्राथमिकता मिले जो पढ़ना चाहते हैं। फीस वृद्धि की जगह शुल्क ढांचे में बदलाव कर उसे ऐसा बनाया जाए कि कम पैसे कमाने वाला व्यक्ति भी आसानी से अपने बच्चे का दाखिला करा सके।

----------

क्लास-3 के बच्चे की फीस साढ़े पांच हजार

समाज में ऐसे वर्ग भी हैं, जिनकी मासिक आमदनी ही शायद पांच हजार रुपये है। पर डिनोबिली सीएमआरआइ स्कूल क्लास-3 के बच्चे से हर महीने की फीस साढ़े पांच हजार रुपये लेती है।

डिनोबिली सीएमआरआइ

क्लास 2 के बच्चे के लिए फीस

मासिक शुल्क - 2600 रुपये

कंप्यूटर शुल्क - 130 रुपये

क्लास 3 के बच्चे का फीस

मासिक शुल्क - 5200 रुपये

कंप्यूटर फीस - 260 रुपये

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस