संस, सिदरी : सेल के टासरा प्रोजेक्ट में ग्रामीणों की रोजगार व पुनर्वास की मांगों के समर्थन में टासरा रोहड़ाबांध विस्थापित मोर्चा की आर्थिक नाकेबंदी रविवार से शुरू हो गई। आठ दिनों तक बेमियादी धरना, प्रदर्शन करने के बाद मोर्चा के लोगों ने रविवार से टासरा प्रोजेक्ट में आर्थिक नाकेबंदी शुरू की है।

मोर्चा के लोग टासरा प्रोजेक्ट के आसपास रहनेवाले लोगों का विस्थापन, रोजगार, पेयजल, शौचालय की मांग, ब्लास्टिग से क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत व एक साथ जमीन का अधिग्रहण करने की मांग कर रहे हैं। रविवार को प्रोजेक्ट में आर्थिक नाकेबंदी होते ही कोयला उत्पादन और डिस्पैच ठप हो गया है। सेल प्रबंधन से सूचना मिलने के बाद गोशाला ओपी प्रभारी ने ओपी में सेल प्रबंधन के साथ आंदोलनकारियों की वार्ता कराई। वार्ता में झरिया के सीओ प्रमेश कुशवाहा, सिदरी थाना प्रभारी सुरेश प्रसाद, सेल के एजीएम उपेंद्र सिंह, पंकज कुमार व आंदोलनकारियों के प्रतिनिधि शामिल हुए। वार्ता समाप्त होने के बाद मोर्चा के नेताओं ने आर्थिक नाकेबंदी जारी रखने की घोषणा की। इससे स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।इनका कहना है कि जब तक मांगें पूरी नहीं होगी। नाकाबंदी जारी रहेगी। सेल प्रबंधन व मोर्चा के लोगों के साथ मंगलवार को फिर वार्ता होगी।

Edited By: Jagran