झरिया-तिसरा, जेएनएन: झरिया कोलियरी क्षेत्र में लगातार हो रही मानसून की बारिश से झरिया की कोलियरी परियोजना में कोयला उत्पादन पर ब्रेक लग गया है। फेस व कार्य स्थल पर जल जमाव के कारण

दो दिनों से बस्ताकोला व राजापुर परियोजना में कोयला उत्पादन नहीं होने से बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधन परेशान है। लगातार बारिश से कोलियरी क्षेत्रों में बहने वाली तिसरा व चटकरी जोड़ियां में पानी की रफ्तार बढ़ गई है। हालांकि, प्रबंधन ने इससे अधिक खतरे के बात नहीं बताई है।

दूसरी और कोलियरी और परियोजना में काम पर प्रभाव पड़ा है। क्योंकि नीचे परियोजना से कोयला और ओबी पत्थर लेकर होलपैक, डंपर को मार्ग से ऊपर आने में परेशानी हो रही है। होल रोड में मिट्टी व कीचड़ के कारण वाहन धीरे-धीरे चल रहा है।

नार्थ तिसरा, केओसीपी, बेरा आदि डिपार्टमेंटल परियोजना में बारिश के कारण उत्पादन प्रभावित हुआ है। नार्थ तिसरा परियोजना के सुरक्षा अधिकारी ईश्वर प्रसाद कहते हैं बारिश में थोड़ा परेशानी हो रही है। लेकिन स्थिति ठीक है। होल रोड की समय-समय पर डोजर से सफाई कराई जा रही है।

केओसीपी परियोजना के सुरक्षा अधिकारी आरएन प्रसाद कहते हैं कि बारिश की वजह से हमारे यहां कोई विशेष परेशानी नहीं है। पहले ही यहां के नाला की सफाई करा दिए हैं। उसमे पानी निकल रहा है। आउटसोर्सिंग परियोजना में भी काम चालू है। केवल कुछ देर के लिए काम बंद किया गया था। होल रोड की मरम्मत के बाद चालू करा दिया गया है। बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधक अपने कोलियरी और परियोजना पर विशेष नजर बनाए हुए हैं। बस्ताकोला क्षेत्र के जीएम सोमेन चटर्जी ने बताया कि क्षेत्र की राजापुर व बस्ताकोला परियोजना में बारिश के कारण कोयला उत्पादन पर प्रभाव पड़ा है। दोनों जगह काम बंद है। केओसीपी परियोजना चालू है। राजापुर और बस्ताकोला परियोजना से कुल मिलाकर छह हजार टन कोयले का उत्पादन तीनों शिफ्ट में प्रतिदिन होता है। यहां कोयला का उत्पादन अभी बंद है।

Edited By: Atul Singh