संस, निरसा : निरसा प्रखंड के लाघाटा गांव के धधकीटांड टोले में डायरिया का प्रकोप बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। 55 वर्षीय माखोनी मुर्मू को गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे निरसा के निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। वहीं अन्य मरीजों का इलाज गांव में ही किया जा रहा है। घटना की सूचना पाकर चिकित्सा कर्मियों की टीम के साथ बीडीओ मुकेश कुमार बाउरी गांव पहुंचे तथा डायरिया पीड़ितों से मिलकर उनका हालचाल जाना।

गांव के स्वास्थ्य कर्मियों ने मरीजों के बीच दवा का वितरण किया। साथ ही उन्हें डायरिया से बचाव के उपाय बताएं। हिदायत के बाद ग्रामीण कुएं का पानी का इस्तेमाल न कर चापाकल के पानी का इस्तेमाल कर रहे हैं। मेडिकल टीम का नेतृत्व कर रहे डॉ. श्याम सुंदर ¨सह ने कहा कि डायरिया नियंत्रण में है। पहले से पीड़ित छह में से पांच लोग अब ठीक हैं। मखोनी मुर्मू की स्थिति बिगड़ने पर उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं पूर्व से निजी अस्पताल में भर्ती परमेश्वर मुर्मू एवं लखी मुर्मू की स्थिति में सुधार है।

Posted By: Jagran