जागरण संवाददाता,धनबाद। पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव अब भी धनबाद समेत पूरे झारखंड में दिख रहा है। मंगलवार को लगातार तीसरे दिन भी धनबाद के साथ ही पड़ोस के जिले बोकारो, गिरिडीह, जामताड़ा घने कोहरे की चपेट में है। रविवार सुबह से माैसम का जो मिजाज बिगड़ा मंगलवार को भी कायम है। हालांकि हल्की बारिश और बूंदाबांदी नहीं हो रही है। लेकिन आसामन में बादल छाए हुए हैं। कभी भी बरस सकते हैं। कोहरे औ बादल के कारण विजिबिलिटि बहुत कम है। इससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पश्चिमी विक्षोभ के कारण पहाड़ों पर भारी बर्फबारी हो रही है। कई पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी ने पिछ्ले 100 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। अब इसका असर मैदानों पर भी दिखेगा। हिमालय की बर्फीली हवाओं के असर से सर्दी बढ़ेगी। 26 जनवरी से धनबाद में भी बर्फीली हवाएं चलेंगी। मौसम विभाग ने इसकी चेतावनी जारी कर दी है। 

बादल के हटते ही ठंठ दिखाएगी तेवर

मौसम विज्ञानी अभिषेक आनंद बता रहे हैं कि इन दिनों बादलों की आवाजाही की वजह से ठंड में थोड़ी कमी आयी है। बादल छाने की वजह झारखंड में बना साइक्लोनिक सरकुलेशन है जो पंजाब में बने साइक्लोनिक सरकुलेशन से जुड गया है। इसके प्रभाव से 25 जनवरी को भी बादल छाए रहेंगे। उत्तर पूर्वी जिलों में कहीं कहीं हल्की बारिश भी हो सकती है। दिन में घना कोहरा छाने जैसी भी बनेगी। इसकी वजह बंगाल की खाड़ी से आनेवाले बादलों के साथ साथ पश्चिमी विक्षोभ की ठंडी हवाओं का आगमन है। ठंडी हवा और बादलों के आपस में मिलने से घना कोहरा छा रहा है। एक-दो दिनों तक ऐसी संभावना बनी रहेगी। बादलों के हटते ही मौसम साफ होगा और ठंड पूरे तेवर के साथ लौटेगी।

26 के बाद काफी नीचे जाएगा रात का तापमान

26 जनवरी से मौसम साफ होने साथ ही तापमान में गिरावट शुरू हो जाएगी। 27 जनवरी से रात के तापमान में और गिरावट का अनुमान है। न्यूनतम तापमान 8-9 डिग्री तक जा सकता है।

इस साल ज्यादा असर दिखा रही ठंड

पिछ्ले साल जिस तरह बारिश ने कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ा था। ठीक उसी तरह इस साल ठंड भी पिछ्ले कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ रही है। आम तौर पर मकर संक्रांति के बाद ठंड का असर कम होने लगता है। पर इस बार जनवरी के अंतिम हफ्ते में भी ठंड तेवर दिखा रही है। मौसम विभाग ने इस बार 15 दिनों का जो पूर्वानुमान जारी किया है, उसके मुताबिक इस साल फरवरी में भी ठंड बनी रहेगी।

Edited By: Mritunjay