जागरण संवााददाता, धनबाद: जब बात बच्चों के पढाई की आती है, तब कोई भी माता-पिता समझौता नहीं करता चाहते। अपने बच्चों की पढाई के लिए अच्छे से अच्छा निवेश करना चाहते है। ऐसे कई प्लान मौजूद है। इनमें से आपको तय करना होगा कि आपके बच्चे के लिए बेहतर प्लान क्या है। आज हम आपको एसबीआई लाइफ के स्मार्ट चैंप इंश्योरेंस प्लान के बारे में बता रहे हैं कि क्या आपको इस प्लान में निवेश करना चाहिए। एसबीआइ धनबाद के मुख्य प्रबंधक एमके सिंह ने बताया कि इस चाइल्ड बीमा को काफी लोगों ने लिया है। इसमें सबसे बड़ी बात है कि बीमा भरने वाले माता या पिता की मृत्यु होने पर भी यह प्लान चलता रहेगा। बीमा से मिलने वाले लाभ में कोई कमी नहीं आएगी।

औरो से अलग  चैंप इंश्योरेंस प्लान

एक पारंपरिक बीमा योजना है। इसमें प्रीमियम भुगतान के दो विकल्प हैं। पहला एकल प्रीमियम और दूसरा लिमिटेड प्रीमियम। एकल प्रीमियम विकल्प में आपको केवल एक बार ही भुगतान करना होता है।

लिमिटेड प्रीमियम विकल्प में आपको बच्चे की 18 वर्ष की आयु तक भुगतान करना होता है।पालिसी की अवधि बच्चे की 21 वर्ष की आयु तक न्यूनतम बीमा राशि एक लाख रुपये और अधिकतम बीमा राशि एक करोड़ रुपये है। जीवन बीमा माता या पिता के जीवन पर है। ऐसा प्लान, जिसमें बीमा बच्चे के जीवन पर है उसे कभी न खरीदें। मृत्यु के अलावा किसी दुर्घटना में माता-पिता की पूर्ण और स्थायी विकलांगता होने पर भी बीमा राशि दी जाती है। लोन सुविधा भी उपलब्ध है और अधिक प्रीमियम पर छूट भी मिलता है।

परिपक्वता पर मि‍लेगा ये लाभ

आपको बच्चे की 18 वर्ष की आयु तक प्रीमियम भुगतान करना होता है। इसके बाद अगले चार वर्ष तक आपको इंश्योरेंस कंपनी पैसा देती है। यह पैसा कुल चार वार्षिक किश्तों में दिया जाता है। पहली तीन किश्तें बराबर होती हैं। चौथी किश्त की राशि अधिक हो सकती है। मान लिए पालिसी खरीदते समय आपके बेटी की आयु पांच वर्ष है। आपको 13 बार प्रीमियम का भुगतान करना होगा (18 वर्ष – 5 वर्ष) प्रीमियम भुगतान अवधि 13 वर्ष है और पालिसी अवधि 16 वर्ष है। प्रीमियम भुगतान की समाप्ति के बाद चार वर्ष तक आपको पैसा मिलेगा। इस पालिसी में आपको रिकवरी बोनस मिलता है। इस बोनस की घोषणा हर वर्ष होती है। परन्तु बोनस केवल परिपक्वता के समय ही मिलता है। अंतिम तीन वर्ष में कोई रिकवरी बोनस नहीं मिलता। साथ ही अंतिम वर्ष में (जब आपका बच्चा 21 वर्ष का होता है) आपको टर्मिनल बोनस भी मिलता है। अगर आप चाहें तो बच्चे की 18 वर्ष की आयु के बाद सारा पैसा एक साथ भी ले सकते हैं।

मृत्यु पर मिलने वाला लाभ

किसी भी चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान या चाइल्ड एजुकेशन प्लान में यह पहलु बहुत महत्वपूर्ण होता है कि पालिसी अवधि की दौरान माता या पिता की मृत्यु होने की स्थिति में या किसी दुर्घटना में पूर्ण और स्थायी रूप से विकलांग होने पर आपके परिवार की बीमा राशि दे दी जाएगी। भविष्य के सभी प्रीमियम माफ कर दिए जाएंगे। प्रीमियम माफ़ होने के बाद भी आपकी पालिसी में बोनस जुड़ते रहेंगे। परिपक्वता के समय पूरा लाभ मिलेगा। माता या पिता की मृत्यु पर मिलने वाले पालिसी लाभ से परिपक्कवता लाभ पर कोई असर नहीं पड़ता है।

Edited By: Atul Singh