धनबाद, जेएनएन। धनबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्मों पर लगे कोच इंडीकेटर बोर्ड महीनों से खराब पड़े हैं। खराब कोच इंडीकेटर यात्रियों को तो दिख रहे हैं लेकिन रेलवे के अधिकारियों को नहीं। रेलवे स्टेशन से आए दिन रेल मंडल प्रबंधक और वरीय वाणिज्य रेेल मंडल प्रबंधक से लेकर तमाम छोटे-बड़े अधिकारी गुजरते हैं लेकिन उन्हें खराब कोच इंडीकेटर दिखाई नहीं देता है। इससे यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

धनबाद रेल मंडल रेलवे को राजस्व देने के मामले में देश में दूसरे नंबर पर है। धनबाद स्टेशन से राजधानी, शताब्दी और दूरंतो जैसी प्रीमियम ट्रेनें गुजरती हैं। इसके बावजूद अधिकारियों ने आंखें बंद कर ली हैं। वे धनबाद रेलवे स्टेशन पर यात्रियों सुविधाओं पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। ऐसे में अगर आप धनबाद स्टेशन से ट्रेन में सफर करने वाले हैं तो बेहतर होगा कि समय से पहले पहुंच जाएं और अपनी कोच की जानकारी ले लें। ऐसा इसलिए क्योंकि सभी प्लेटफॉर्म के कोच इंडीकेटर बोर्ड खराब हो चुके हैं। ट्रेन आ जाने पर आपको कोच ढूंढऩे में परेशानी हो सकती है। खासतौर पर कम समय के लिए ठहरने वाली टे्रनों के यात्रियों के लिए कोच ढूंढऩा मुश्किलों भरा हो सकता है।

दरअसल, यात्री सुविधा के लिए रेलवे ने साढ़े तीन करोड़ खर्च कर प्लेटफॉर्म पर कोच इंडीकेटर बोर्ड लगाए थे। पर चंद महीने बाद ही डिस्प्ले बोर्ड ने काम करना बंद कर दिया। बोर्ड लगे होने से ट्रेन आने पर कोच नंबर उसमें दर्शाया जाता था। इससे यात्रियों को सुविधा होती थी। डिस्प्ले बोर्ड देखकर खड़े हो जाते थे। खास तौर पर बुजुर्ग और बीमार यात्रियों के लिए सुविधा काफी राहत देनेवाली थी। डिस्प्ले बोर्ड खराब हो जाने से अब ट्रेन आते ही कोच ढूंढऩे को लेकर आपाधापी मच रही है। इस बारे में संबंधित अधिकारी का कहना है कि नये सिरे से कोच इंडीकेटर लगाने की प्रक्रिया चल रही है। मासांत तक सभी प्लेटफॉर्म पर इंडीकेटर लग जाएंगे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप