जागरण संवाददाता, धनबाद। एसएनएमएमसीएच के स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग से नवजात बच्चे की चोरी करनेवाली राजगंज की मां-बेटी काजल कुमारी और तेजिया देवी सीसीटीवी फुटेज के सहारे ही पकड़ ली गईं। घटना के बाद अस्पताल के सभी सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई तो दोनों कोरोना जांच काउंटर पर भी दिखीं। वहां समय के आधार पर रिकार्ड खंगाला गया तो पता चला कि बच्चे की चोरी करने से पहले काजल कुमारी ने वहीं अपनी कोरोना जांच कराई थी। काजल अपनी मां तेजिया देवी के साथ पहुंची थी। वहीं से उनका मोबाइल नंबर और आधार कार्ड मिल गया। वैसे, कोरोना जांच के लिए पहले काजल कुमारी ने अपना नाम-पता गलत लिखाया था। उसने पहले अपना नाम गुड़िया कुमारी और पता कोडरमा बताया था, लेकिन उस नंबर पर कोड नहीं गया। तब उससे सही मोबाइल नंबर मांगा गया। तब उसने वहां अपना सही नंबर बताया था। इसके बाद तकनीकी टीम ने उसके मोबाइल नंबर को ट्रेस कर लिया। मोबाइल का लोकेशन राजगंज के बरवाडीह गांव में मिला। इसके बाद महिला पुलिस के साथ सरायढेला और राजगंज थाना की पुलिस मुक्तेश्वर महतो के घर पहुंच गई। वहां दूसरी मंजिल पर नवजात को चोरी छिपाकर रखा गया था।

अस्पताल के एक कर्मी ने भी की मदद

पुलिस को अस्पताल के एक कर्मी ने भी महिलाओं का सुराग देने में मदद की। कर्मी महिलाओं के गांव का ही है। कर्मी ने पुलिस को बताया कि उसके गांव में एक महिला नवजात को लेकर आई है, लेकिन वह गर्भवती नहीं थी। इस इनपुट से भी पुलिस को सुराग मिला। टेंपो चालक ने भी दी जानकारी : काजल और उसकी मां नवजात को लेकर अस्पताल से बिना किसी रोकटोक के बाहर निकल गए थे। कोयला नगर गेट के पास उन्होंने एक टेंपो को रिजर्व किया था। उसी टेंपो से मां, बेटी और साथ मौजूद उनकी नतनी राजगंज गई। सुबह टेंपो वाले ने जब अखबार में बच्चा चोरी की खबर पढ़ी तो उसने महिलाओं को पहचान लिया। उसने इसकी सूचना पुलिस को दी। बताया कि उन्हें राजगंज में छोड़ा था।

काजल ने बताया अपना बच्चा, जांच में निकली झूठ

काजल और उसकी मां तेजिया देवी को लेकर पुलिस उस समय संशय में पड़ गई, जब काजल ने बताया कि उसने नवजात की चोरी नहीं की है, बल्कि उसने खुद उसे जन्म दिया है। इसकी सूचना वरीय पुलिस अधिकारियों को दी गई। पुलिस के निर्देश के बाद काजल देवी की मेडिकल जांच कराई गई। इस दौरान काजल का अल्ट्रासाउंड, एक्स-रे सहित अन्य पैथोलाजी जांच की गई। इसमें साफ हो गया कि काजल का कोई प्रसव नहीं हुआ है। इसके बाद काजल और उसकी मां तेजिया देवी को पुलिस ने जेल भेज दिया। बेटा नहीं होने पर मिलता था ताना : काजल की शादी डुमरी स्टेशन के कोयाटांडा गांव में हुई है। काजल को केवल बेटी है। बेटा नहीं होने के कारण ससुराल वाले ताना मारते थे। इससे काजल काफी परेशान थी। काजल के पति का नाम चेतलाल महतो है। काजल के पिता का नाम मुक्तेश्वर महतो है।

अस्पताल से खुशी खुशी विदा हुई गुड़िया

भूली शक्ति मार्केट के सरोज यादव की पत्नी गुड़िया देवी अपने नवजात को पाकर काफी खुश है। बच्चा मिलने के बाद गुरुवार को गुड़िया देवी को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। पूरा परिवार चेहरे पर मुस्कान लिए अपने घर भूली को रवाना हुआ।