मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, धनबाद: नगर निगम की बसें ले ली, विभिन्न रूट पर रोजाना इसका परिचालन भी हो रहा है। और तो और, बसें क्षतिग्रस्त भी हो चुकी हैं। बावजूद इसके बस का परिचालन संभाल रहे संबंधित व्यक्ति परिचालन बकाया राशि का भुगतान करने में आनाकानी कर रहे हैं। सिर्फ यही नहीं बसें इतनी क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं कि इनके मेंटेनेंस पर लाखों खर्च होंगे।

निगम ने महिलाओं को अपने पैरों पर खड़े होने की नीयत से स्वयं सहायता समूह को भी पांच बसें मुहैया कराई, लेकिन इन्होंने भी परिचालन राशि जमा नहीं की। अब जाकर निगम को अपने बसों का ख्याल आया है। सभी संबंधित को नोटिस जारी कर सात दिन के अंदर मांग राशि का भुगतान निगम कोष में करने का निर्देश दिया है। ऐसा न होने पर सरकारी संपत्ति की क्षति एवं राजस्व की हानि के लिए प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। सभी पर यह बकाया 15 जून 2019 तक का है। 2016 में ही बसों के संचालन की जिम्मेवारी दी गई थी।

पांच महिला स्वयं सहायता समूहों ने भी नहीं दिया किराया: नगर निगम ने आधी आबादी को आत्मनिर्भर बनाने की नीयत से रोजगार देने की पहल की। बकायदा पांच महिला स्वयं सहायता समूह को एक-एक बस यानी पांच एसएसजी को पांच बसें दी गईं। प्रतिदिन के हिसाब से 200 रुपये किराया भी तय किया गया है। यह किराया निगम को भुगतान करना था, लेकिन लगभग पांच माह बीत जाने के बाद भी एक भी एसएसजी ने किराया भुगतान नहीं किया। निगम इन स्वयं सहायता समूह को नोटिस जारी करने जा रहा है। नोटिस का माकूल जवाब न देने की सूरत में बसें जब्त भी किए जाने की बात निगम कह रहा है। इन महिला स्वयं सहायता समूह में महिमा, सरस्वती एवं उड़ान आदि शामिल है।

10 बसों पर 26 लाख 35 हजार 354 बकाया

बस परिचालनकर्ता : मनोज चौधरी, गांधी रोड धनसार

- कुल बस आवंटित : दो

- परिचालन बकाया : 50 हजार 899

- बस क्षतिग्रस्त अनुमानित शुल्क : तीन लाख 39 हजार 60

- कुल अनुमानित राशि : तीन लाख 89 हजार 959

बस परिचालनकर्ता : शंभूनाथ सिंह, मनोरम नगर

- कुल बस आवंटित : दो

- परिचालन बकाया : 74 हजार 205

- बस क्षतिग्रस्त अनुमानित शुल्क : तीन लाख 39 हजार 60

- क्षति की कुल अनुमानित राशि : चार लाख 13 हजार 265

बस परिचालनकर्ता : राजीव कुमार, जोगता सिजुआ

- कुल बस आवंटित : छह

- परिचालन बकाया : आठ लाख 14 हजार 950

- बस क्षतिग्रस्त अनुमानित शुल्क : दस लाख 17 हजार 180

- क्षति की कुल अनुमानित राशि : 18 लाख 32 हजार 130

"सभी बकाएदारों को नोटिस जारी किया गया है। निर्धारित समय में भुगतान करना होगा। महिलाओं को भी आत्मनिर्भर बनाने के लिए बसों के संचालन की जिम्मेवारी दी गई। हालांकि इन्होंने भी नाममात्र किराया देना मुनासिब नहीं समझा। सभी महिला स्वयं सहायता समूहों को भी नोटिस भेजा जाएगा।"

- चंद्रमोहन कश्यप, नगर आयुक्त

Posted By: Deepak Kumar Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप