धनबाद, जेएनएन। नगर निगम ने वित्तीय वर्ष 2020-21 में किए जाने वाले कार्यों का खाका खींचना शुरू कर दिया है। नगर आयुक्त के निर्देश पर लेखा शाखा बजट तैयार कर रहा है। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार लगभग 150 करोड़ रुपये अधिक का बजट होने की संभावना है। इस बार 600 करोड़ रुपये का बजट हो सकता है, जबकि पिछले वर्ष 500 करोड़ रुपये का बजट था।

इसके साथ ही 14वें वित्त वर्ष की राशि इस बार भी इंटीग्रेटेड सड़क और नाली निर्माण पर खर्च की जाएगी। नगर निगम की मानें तो विकास योजनाओं और शहर के सौंदर्यीकरण पर विशेष जोर होगा। मार्च के पहले या दूसरे सप्ताह में बजट पेश किया जा सकता है। इस माह के अंत तक बजट तैयार हो जाएगा। बजट में निगम की आमदनी और खर्च का पूरा ब्योरा भी शामिल होगा। इस बजट के साथ-साथ डिस्ट्रिक्ट माइंस एवं मिनरल फाउंडेशन (डीएमएफटी) फंड से भी अच्छी खासी राशि मिलने की उम्मीद है। 

बजट में इसपर होगा जोर :

  • कचरा निस्तारण के लिए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट।
  • सभी वार्डों में इंटीग्रेटेड सड़कें एवं पक्की नालियां।
  • स्ट्रीट लाइटें।
  • गली-मोहल्लों से लेकर हर चौक-चौराहों पर सीसीटीवी कैमरा।
  • प्रमुख चौक एवं पार्कों का सौंदर्यीकरण।
  • वार्डों में जरूरत के हिसाब से विवाह मंडप का निर्माण।
  • निगम क्षेत्र की हर गली में साफ-सफाई की व्यवस्था। 
  • डोर टू डोर कचरा उठाव सुनिश्चित करना।
  • साफ-सफाई के लिए उपकरण की खरीदारी।

राजस्व वसूली प्राथमिकता : इस वित्तीय वर्ष में निगम का राजस्व वसूली में विशेष जोर होगा। राजस्व वसूली का लक्ष्य भी इस वित्तीय वर्ष में 50 से 60 करोड़ हो सकता है। होल्डिंग टैक्स, पुरानी दुकानों के बकाए किराए, विज्ञापन से होने वाली आय, बंदोबस्ती (पार्किंग) और नई दुकानों के आवंटन से होने वाली आय पर निगम का विशेष फोकस होगा। पिछले साल स्थापना मद में 22 करोड़ रुपया खर्च किया गया था। इस बार यह राशि भी बढ़ेगी। इस पर कितनी राशि खर्च किया जाएगा। इसका निर्धारण अभी नहीं किया गया है। बजट तैयार होने के बाद निगम बोर्ड में पेश किया जाएगा। बोर्ड से बजट के पास होने के बाद इसे सरकार के पास भेजा जाएगा।

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस