जागरण संवाददाता, धनबाद : देश के 76वें स्वतंत्रता दिवस की शुरुआत जिले में उपायुक्त संदीप सिंह ने सोमवार को गोल्फ ग्राउंड में संपन्न हुए मुख्य समारोह में ध्वजारोहण कर किया। इसके पहले उन्होंने जिला की ग्रामीण आरक्षी अधीक्षक रिष्मा रमेशन के विभिन्न सशस्त्र बलों के जवानों द्वारा हुए परेड का निरीक्षण किया। तत्पश्चात उपाुयक्त ने उपस्थति लोंगों को संबोधित करते हुए देश, राज्य और समाज की प्रगति के लिए ईमानदारी से काम करने का संकल्प कराया। साथ ही पिछले एक साल में जिला प्रशासन द्वारा कराए गए जनविकास की तमाम योजनाओं के क्रियान्वयन और उपलब्धि को लोगों के सामने रखा।

सिंह ने अपने संबाेधन की शुरुआत आजादी की लड़ाई में अपने प्राणों का उत्सर्ग करनेवाले क्रांतिकारियों और अन्य नेताओं को याद करते हुए की। उन वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए लोगों को देश की तरक्की और खुशहाली के लिए काम करने का आह्वान किया। साथ ही कहा कि अभी भी जिला में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के काफी कुछ किए जाने की जरूरत है। अभी जिले के ग्रामीण इलाकें के विद्यालयों को पहले लीडर स्कूल औेर फिर उनका अपग्रेडेशन करते हुए आदर्श स्कूलों में बदलने का काम जोर शोर से हो रहा है। इसके लिए डीएमएफटी फंड का उपयोग किया जा रहा है।

सिंह ने जिले के खनिज से भरपूर इलाका होने के कारण शुद्ध पेयजल की आपूर्ति को एक बड़ी चुनौती माना और कहा कि जिला प्रशासन हर घर नल का जल को पहुंचाने के लिए कृतसंकल्पित है। इसके लिए जिले में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत करबी 1500 करोड़ रुपये की राशि खर्च कर लोगों को घरों तक पानी मुहैया कराने की कोशिश की जा रही है। जल्द ही ये सभी योजनाएं पूर्ण होनेवाली हैं। टुंडी, पूर्वी टुंडी और बाघमारा में शीघ्र ही सभी पेयजल योजनाओं को पूर्ण करते हुए एक लाख की आबादी को नल का जल उपलब्ध करा दिया जाएगा।

जिले में पर्यटन की अपार संभावना का जिक्र करते हुए उपायुक्त ने कहा कि मैथन, पंचैत, तोपचांची के अलावा अन्य कई जगहों को पर्यटकीय सुविधाओं से लैस किया जा रहा है। 500 करोड़ से ज्यादा की राशि इस मद में खर्च कर इनके कायाकल्प की योजनाओं को मूर्त रूप दिया जा रहा है।

धनबाद नगर निगम की चर्चा करते हुए कहा कि शहरी इलाके में सार्वजनिक परिवहन उपलब्ध कराना किसी चुनौती से कम नहीं। इसके लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही पूरे जिले में प्रदूषण को कम करने के लिए कई तरह की कोशिशें की जा रही हैं। इसके लिए जिला में परिवहन कार्य में लगे वाहनों को सीएनजी वाहन के बदलने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

शिक्षा के क्षेत्र में 80 स्कूलों में स्मार्ट क्लासेस बनाने की उद्धघोषण करते हुए कहा कि 250 माडल स्कूल के खोले जाने की बात कही। वहीं विभिन्न कल्याण योजना मद से 1.19 लाख बच्चों को स्कालरशिप दिए जाने की बात बतायी।

समारोह का औपचारिक समापन दो महिला स्वतंत्रता सेनानियों और मेधावी बच्चों को सम्मानित करने के अलावा प्रशासनिक और पुलिस सेवा में बेहतर कार्य करनेवालों को प्रमाण पत्र वितरण के साथ हुआ। जबकि सबसे अंत में परेड में बेहतर करनेवालों को वरीय और कनीय वर्ग में बेहतर करने वालों को अलग अलग प्रमाण पत्र देकर उनकी हौसला अफजाई की गई।

Edited By: Atul Singh