धनबाद, जेएनएन। गीता देवी ने जमीन विवाद संबंधी मामले को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को किए गए ट्वीट पर धनबाद उपायुक्त अमित कुमार ने संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की है। कार्रवाई के बाद उपायुक्त ने सीएम को अपनी रिपोर्ट सौंपी है। जिसमें बताया है कि गीता देवी की भूमि से संबंधित मामले की जांच निरसा अंचल अधिकारी से कराई गई। इसमें पाया गया कि सरसापहाड़ी की जमीन वर्ष 2004 में गीता देवी के नाम पर खरीदी गई। जमाबंदी में गीता का नाम दर्ज है। लगान रशीद वर्ष 2019-20 तक निर्गत है।

उन्होंने बताया कि उक्त भूमि को लेकर छोटन सिंह और ओम प्रकाश वर्णवाल के बीच विवाद चल रहा है। इस संबंध में दोनों पक्षों के कागजातों की जांच कराई गई। जांच उपरांत पाया गया कि उक्त विवादित जमीन से संबंधित मामले में जिला न्यायालय ने गीता देवी के पक्ष में निर्णय दिया था। इसके बाद वर्ष 2017 में छोटन सिंह उच्च न्यायालय चले गए, जहां संबंधित मामला लंबित है। न्यायालय का आदेश आने के बाद अग्रेतर कार्रवाई की जा सकती है। 

दरअसल, गीता देवी नामक महिला ने बिते शनिवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट कर अपने जमीन पर सिद्धनाथ सिंह उर्फ छोटन सिंह द्वारा जबरन कब्जा करने की शिकायत की। साथ ही मामले की जांच कर जमीन पर दखल दिलाने की मांग की है। इस पर मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए उपायुक्त धनबाद को मामले की जांच कर सूचित करने की बात कही है।

गीता देवी ने अपने शिकायत में कहा है कि कुमारधुबी स्टेशन रोड के समीप मेरी जमीन पर कभी भी कुछ करना चाहती हूं तो वहां स्थानीय नेता छोटन सिंह अपने लोगों के साथ आकर मेरे काम में बाधा पहुंचाते हैं। इसकी शिकायत चिरकुंडा थाना में देने के बाद भी मेरा सहयोग नहीं कर रहे है। मैंने इसकी शिकायत पूर्व में 181 पर करके जमीन संबंधी सारे विवरणी दे चुकी हूं। स्थानीय प्रशासन को आदेश भी आया था, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। 

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस