संवाद सहयोगी, बरोरा ( कतरास): बरोरा क्षेत्र का मुराईडीह कोल डंप इलाका आज दिन लगभग साढ़े ग्यारह बजे अंधाधुंध फायरिंग और बम धमाकों से दहल उठा। कांटा घर के समीप लगभग आधे घंटे तक हुई गोलीबारी से भगदड़ मच गई। कोई जान मारने पर उतारू था तो कोई जान बचाने के लिए भाग रहा था। भगदड़ के बीच कई लोगों ने दुकानों में छिप कर अपनी जान बचाई।

प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो कांटाघर का पूरा इलाका रणभूमि में बदल चुका था। हिंसा की सूचना पाकर पुलिस और सीआइएसएफ के जवान मौके पर पहुंचे, लेकिन तब तक गोली और बम चलाने वाले जा चुके थे। 12 राउंड से अधिक गोली चलने और आठ-दस बमों का धमाका किए जाने की बात सामने आई है। पुलिस ने मौके से दो गोली और चार कारतूस बरामद किए हैं। मौके से पुलिस ने चार छोटे डिब्बे जब्‍त किए हैं, जिसमें विस्फोट किए गए थे। पुलिस ने एक क्षतिग्रस्त मोटरसाइकिल जब्‍त की है, जिसे हमलावरों ने चूर-चूर कर दिया है।

बता दें कि डंप में वर्चस्व को लेकर सिंडिकेट समर्थक और विरोधियों के बीच लंबे समय से तानातनी चल रही थी। पिछले चार दिनों से यहां कांटा खराब था। डंप में सिंडिकेट विरोधी डीओ धारक का एक लोड और दो खाली ट्रक तथा सिंडिकेट समर्थकों के दो खाली ट्रक भी उसी दिन से यहां खड़े थे। प्रबंधन ने अगले सारे एलॉटमेंट को रद कर दिया था।

[घटनास्‍थल पर पहुंचीं डीएसपी निशा मुर्मू।]

इधर, शुक्रवार को सिंडिकेट विरोधी अपने दोनों खाली ट्रक को लोडिंग के लिए डंप ले जाने लगे। इस बीच सिंडिकेट समर्थकों ने विरोधियों के ट्रकों को यह कहते हुए रोक दिया कि प्रबंधन का आदेश है कि खाली ट्रकों को बाहर करना है। इसी को लेकर दोनों पक्ष के बीच विवाद शुरू हो गया और देखते ही देखते हरवे हथियार से लैस होकर काफी संख्या में लोग जमा होने लगे। दोनों ओर से फायरिंग और बमों के धमाके हुए। दोनों पक्ष एक दूसरे पर गोली और बम चलाने का आरोप लगा रहे हैं।

Edited By: Deepak Kumar Pandey