धनबाद, जेएनएन। डीएवी स्कूल पुराना बाजार के सामने खेल के मैदान को लेकर जारी विवाद के पीछे तरह-तरह की कहानी सामने आ रही हैं। एक कहानी यह भी है कि खेल के मैदान में मेला लगा करता है। इस मेले से बहुतों की मुट्ठी गर्म होती है। वे नहीं चाहते हैं कि खेल के मैदान से होकर रोड बनें। ऐसा हुआ तो मेला नहीं लग पाएगा। दूसरी तरफ धनबाद और आमजन के हित में रोड निर्माण को जायज बताते हुए अब बैंक मोड़ चेंबर की सामने आ गया है। सड़क निर्माण के लिए आंदोलन की चेतावनी दी है। 

किसी बच्चे पर नहीं चली लाठीः रेलवे की ओर से धनबाद स्टेशन के दक्षिणी छोर से डीएवी स्कूल तक बन रही सड़क को लेकर गुरुवार को हुए सड़क जाम, आगजनी और लाठी चलाने के मामले में बैंक मोड़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के सचिव प्रमोद गोयल ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जिस वक्त घटना हुई उस वक्त से पूरे तीन घटे तक वह मौके पर मौजूद थे। उस दौरान किसी बच्चे पर लाठी नहीं चलाई गई। सड़क पर लेट गए लोगों को हटाने के लिए लाठी से सिर्फ डराया जा रहा था। मैं उस घटना का चश्मदीद हूं। घटना के दिन प्रशासन और रेलवे के सुरक्षाकर्मियों के साथ अभद्रता भी हुई थी। अब शहर के विकास को रोकने के लिए बच्चों को ढाल बनाया जा रहा है। बैंक मोड़ क्षेत्र का विकास जमाने से रुका हुआ था। अब जब विकास शुरू हुआ तो बच्चों के नाम पर गंदी राजनीति की जा रही है। उन्होंने कहा कि निजी स्वार्थ से जुड़े कुछ लोग सड़क निर्माण का विरोध कर रहे हैं। डीएवी मैदान के नाम पर हो रही राजनीतिः गोयल ने कहा कि डीएवी मैदान के नाम पर राजनीति हो रही है। उस मैदान को बच्चों के खेलने की जगह बताया जा रहा है, जहा सिर्फ मेला लगता है और पटाखे की दुकानें सजती हैं। सामान्य दिनों में नशेड़ी और जुआरियों का अड्डा लगा रहता है। 26 जनवरी को धनबाद के लिए ऐतिहासिक दिन बनाने से रोका जा रहा : प्रभात बैंक मोड़ चैंबर के अध्यक्ष प्रभात सुरोलिया ने कहा कि 26 जनवरी देश के लिए ऐतिहासिक दिन है और जाम से जूझ रहे धनबाद के लिए भी उस दिन को ऐतिहासिक बनाने की कोशिश की जा रही थी। लेकिन बच्चों का इस्तेमाल कर राजनीतिक साजिश के तहत काम को बंद करा दिया गया। इससे पहले रेलवे की खाली जमीन पर पार्क बनाने का प्लान भी बना था। उस समय भी योजना राजनीति की भेंट चढ़ गई थी।

जनप्रतिनिधि बताएं जब विरोध ही करना था तो शिलान्यास करने क्यों आए थेः चैंबर ने यह सवाल भी उठाया कि डीएवी स्कूल मैदान से होकर बनने वाली सड़क का जब विरोध कर काम ही बंद कराना था, तो यह विरोध उस वक्त क्यों नहीं हुआ जब योजना शुरू हो रही थी। कहा की रेलवे अधिकारियों की मौजूदगी में जनप्रतिनिधियों ने दक्षिणी छोर पर बनने वाली सड़क का शिलान्यास किया था। अब वही जनप्रतिनिधि इसका विरोध भी कर रहे हैं। 26 तक सड़क नहीं बनी तो सड़क पर उतरेंगे चैंबर समेत अन्य संगठनों के पदाधिकारियों ने सड़क निर्माण रोकने का विरोध किया। कहा कि 26 तक सड़क बनकर तैयार नहीं हुई तो सड़क पर उतरने को बाध्य होंगे। कहा कि धनबाद जनप्रतिनिधियों की मनमानी का शिकार होता रहा है। 

स्टेशन से डीएवी स्कूल तक सड़क बनाने वाले के साथ चैंबर खड़ा : सोहराब पुराना बाजार चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष शोहराब खान ने कहा कि स्टेशन से डीएवी स्कूल तक सड़क बनाने वाले के साथ चैंबर खड़ा है। 2011 में भी बंद झरिया रेल लाइन के ऊपर सड़क निर्माण का प्लान चैंबर ने ही तैयार किया था, जो अब तक पूरा नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण का विरोध सियासत के तहत हो रहा है। जिन लोगों के पॉकेट से आमदनी छीन रही है, वही इसका विरोध कर रहे हैं। इस सड़क के बन जाने से धनबाद की 30 फीसद आबादी को राहत मिलेगी।

स्कूली बच्चों को आगे कर हो रही ओंछी राजनीति : हेलीवाल मटकुरिया चैंबर ऑफ कॉमर्स के दिनेश हेलीवाल ने कहा कि स्कूली बच्चों को आगे कर सड़क निर्माण रोकने की ओंछी राजनीति की जा रही है। कहा कि शहर में जाम का आलम यह है कि बाघमारा से मटकुरिया पहुंचना बैंक मोड़ से पूजा टॉकीज पहुंचने से ज्यादा आसान है। इस परेशानी का विकल्प तलाशे जाने के बाद भी विरोध निंदनीय है।

चुनाव में वादा, अब बदल गया इरादा : जगनानी धनबाद जिला डिस्ट्रीब्यूटर्स के अध्यक्ष ललित जगनानी ने तंज कसते हुए कहा कि चुनाव में वादा और अब बदल गया इरादा। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में यातायात समस्या से छुटकारा दिलाने का वादा किया गया था। जनप्रतिनिधि ने अपनी मेनीफेस्टो में भी इसकी घोषणा की थी। अब शहर को परेशानी से छुटकारा दिलाने की कोशिश का विरोध कर रहे हैं। कौन-कौन थे मौजूद बैंक मोड़ के जिला चैंबर के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में चैंबर पदाधिकारियों के साथ मोटर डीलर्स एसोसिएशन के सचिव प्रेम प्रकाश गंगेसरिया के साथ साथ डिस्ट्रीब्यूटर्स एसोसिएशन व अन्य संगठनों के पदाधिकारी मौजूद थे। --डीएवी प्रकरण में अब रेलवे ने बनाई जांच कमेटी, एक हफ्ते में देगी रिपोर्ट धनबाद : डीएवी स्कूल मैदान से होकर बनने वाली सड़क निर्माण को लेकर गुरुवार को हुई घटना को लेकर अब रेलवे ने जांच कमेटी बनाई है। कमेटी में वाणिज्य और इंजीनिय¨रग विभाग के अधिकारियों के साथ बरकाकाना के आरपीएफ अधिकारी भी शामिल हैं। कमेटी को एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है। इससे पहले घटना को लेकर जिला प्रशासन की जांच कमेटी जांच पूरी कर अपनी रिपोर्ट सौंप चुकी है। जिला प्रशासन की रिपोर्ट में आरपीएफ के लाठी चार्ज का जिक्र है। रेल प्रशासन से घटना के दिन ऑन ड्यूटी आरपीएफ की लिस्ट भी मांगी गई है।

ड्रोन कैमरा देखते ही बोले आंदोलनकारी, सर्वे करा रही रेलवे धनबाद : सड़क बन जाने से बड़ी राहत मिलेगी। इसे दर्शाने के लिए डीएवी स्कूल के पास से बन रही सड़क और आसपास के हिस्से की ड्रोन से तस्वीरें ली गई। आसमान में ड्रोन कैमरा देखते ही आंदोलन पर बैठे लोग बोले लगता है रेलवे सर्वे करा रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस