धनबाद, जेएनएन। छठ महापर्व की तैयारी शुरू हो गई है। चार दिन चलने वाला यह पर्व गुरुवार को नहाय-खाय से शुरू होगा। भगवान सूर्य को पहला अघ्र्य (शाम) दो नवंबर को और दूसरा (सुबह) तीन नवंबर को दिया जाएगा। व्रतियों ने तैयारी शुरू कर दी है। बाजार में भी चहल-पहल है। व्रती महिलाएं और उनके घरवाले नारियल, सूप, दउरा की खरीदारी में जुट गए हैं। गली-मुहल्लों में छठी मईया के गीत बजने लगे हैं।

इन सबके बीच छठ जैसा पारंपरिक महापर्व भी अब ऑनलाइन हो चला है, तभी तो ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल पर छठ से जुड़ा हर सामान मिल रहा है। कई पोर्टल छठ पर अच्छी खासी छूट तक दे रहे हैं। ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल पर छठ में इस्तेमाल होने वाले ट्रेडिशनल उत्पाद खूब बिक रहे हैं।

डिजाइनर छठ पूजा सूप और डलिया की अधिक मांग

ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल पर छठ की पूजा सामग्री मिल रही है। इसमें अक्षत, पीसे हुए चावल, लाल और पीला सिंदूर, फूल-पत्तियां, डाला, हवन सामग्री, भगवान सूर्य की फोटोज और हाथी की मूर्तियां वगैरह आपको ऑनलाइन मिल जाएंगे। साथ ही ऑनलाइन पोर्टल पर सारी छठ सामग्री और उसके इस्तेमाल की विधि भी बताई गई है। कई शॉपिंग पोर्टल ने कांबो सामग्री के कई अच्छे ऑफर्स कस्टमर्स को दिए हैं। सबसे अधिक मांग डिजाइनर छठ पूजा सूप और बांस की डलिया की है। विभिन्न पोर्टल पर 40 से 60 फीसद तक छूट दी जा रही है। स्नैपडील, अमेजन, जस्ट पूजा सामग्री, यस माई विश जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर सभी सामग्रियां उपलब्ध हैं।

छठ मइया के गीत भी ऑनलाइन

छठ मइया के गाने भी ऑनलाइन उपलब्ध है। छठ मइया डीवीडी पर ऑनलाइन पोर्टल 40 फीसद तक छूट के साथ कैशबैक की भी सुविधा दे रहे हैं। यही वजह है कि ऑनलाइन पोर्टल पर सामान खरीदने वालों की संख्या छठ जैसे पर्व पर काफी बढ़ी है। झाड़ूडीह की मनीषा बताती हैं कि इस बार कई पोर्टल ने छठ पर मैथिली और भोजपुरी की डीवीडी मंगाई है। जेपी नगर की पूजा मिश्रा और सुधा ने छठ का सामान ऑनलाइन मंगवाया है।

गोबर के उपलों पर 40 से 70 प्रतिशत छूट

छठ पूजा में गोबर के उपलों का महत्व सबसे अधिक होता है, क्योंकि शुद्ध घी में बनने वाला प्रसाद इसी की आंच पर पकता है। इसके लिए गोबर के उपले का पैक ऑनलाइन मिल रहा है। 6-24 उपलों का पैक कंपनियां बेच रही हैं, जिसपर 40 से 70 प्रतिशत छूट है। 210-599 रुपये इसकी कीमत है जिसमें शुद्ध गोबर के उपलों के साथ गोबर और लकड़ी के उपले भी मिल रहे हैं। इसके साथ ही धूपदानी, पीतल के दीप, हवन सामग्री और हवन कुंड भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस