धनबाद : दो लाख की बाइक, हाथ में 20 हजार का मोबाइल लिये एक युवक बिना हेलमेट पकड़ा गया, तो साथ में मौजूद मां ने रुपये की कमी का रोना रो दिया। कहा कि साहब बच्चे ने जिद करके बाइक, मोबाइल खरीदवा लिया। हेलमेट खरीदने के लिए उनके पास रुपये नहीं हैं साहब। इसलिए बिना हेलमेट का बाइक चलाना मजबूरी है। एक मां के मुंह से बेटे के बचाव में कहे गए ये शब्द सुनकर परिवहन विभाग के संयुक्त सचिव ब्रजेंद्र हेम्ब्रम दंग रह गए। शुक्रवार को वह विशेष जांच अभियान के तहत गोविंदपुर स्थित आमघाटा रिलायंस पेट्रोल पंप पहुंचे थे। वहां महंगी बाइक पर बिना हेलमेट मिले युवक सामने मिला, तो उन्होंने टोक दिया।

फिलहाल लड़के की मां का जवाब सुनकर कुछ देर वह चुप रहे। फिर उन्होंने लड़के और उसकी मां को हेलमेट की अहमियत और जान की कीमत के बारे में बताया। इसके बाद बाइक को जब्त कर पेट्रोल पंप मालिक के सुपुर्द कर दिया। कहा कि जब हेलमेट लेकर आएंगे, तब बाइक मिलेगी। इसके बाद संयुक्त सचिव ब्रजेंद्र हेम्ब्रम ने परिवहन कार्यालय का भी निरीक्षण किया। काउंटर पर जाकर ड्राइविंग लाइसेंस, लर्निग लाइसेंस, आरसी बनाने की प्रक्रिया को देखा। इस मौके पर जिला परिवहन पदाधिकारी ओमप्रकाश यादव भी मौजूद थे। बताते चले कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के आलोक में राज्य सरकार की ओर से परिवहन विभाग को दायित्व दिया गया है कि वे प्रत्येक जिले में जाकर सड़क सुरक्षा संबंधी नियमों के अनुपालन, पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण जांच केंद्र की स्थिति, हेलमेट व सीट बेल्ट नहीं तो तेल नहीं अभियान के हालात कैसे हैं इसका जायजा लिया जा रहा है।

------------------------------------------ ---------------------------

छ: घंटे में 400 वाहन किये सीज

संयुक्त सचिव ब्रजेन्द्र हेम्ब्रम ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने भी सड़क दुर्घटना के बढ़ते मामले पर चिंता जताई है। ऐसे में लोगों को यातायात नियमों के पालन कराने के लिए ही राज्य स्तर पर विशेष जाच की जा रही है। इसके तहत जिले के कई क्षेत्रों में जांच अभियान चलाया। किसी के पास हेलमेट नहीं तो कोई बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाते हुए पाया गया। कईयों को समझा कर छोड़ दिया गया जो नहीं माने उनके वाहनों को जब्त कर अग्रेतर कार्रवाई करने का आदेश संबंधित पदाधिकारी को दिया गया। इस दौरान छ: घंटे में 400 बड़े छोटे वाहन थे जिन्हें जब्त कर कार्रवाई करने का आदेश दिया गया। वहीं कोलियरी क्षेत्र में जाच के दौरान एक नाबालिग को हाइवा चलाते हुए तथा दो अन्य हाइवा जिनके पास कुछ दस्तावेज नहीं थे पकड़ा गया और उनसे करीब डेढ़ लाख का जुर्माना लिया गया। वहीं करीब तीन लाख रूपये से अधिक जुर्माना राशि वसूली गई। ---------------------

डाक्टर ने हेलमेट पहनने से किया है मना

बगैर हेलमेट का तेल ले रहे दो लोगों को जब परिवहन संयुक्त सचिव ने पकड़ा तो उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। उनमें से एक विशुनपुर निवासी ने कहा कि मेरा इलाज राची में चल रहा है। डाक्टर ने हेलमेट पहनने से मना किया है। यदि मुझे कुछ होता है तो इसका जिम्मेवार प्रशासन होगा। वहीं दूसरे एक व्यक्ति ने कहा बच्चे को स्कूल पहुंचाने जा रहे थे। मेरी गाड़ी रोक दी और चाबी छीन ली। इतने लोग बिना हेलमेट के चल रहे हैं उन्हें नहीं पकड़ा जा रहा है। खुद अधिकारी बिना सीट बेल्ट के चल रहे है। यह गलत है। हालांकि उनमें से एक व्यक्ति भीड़ का फायदा उठाकर निकल गया वहीं दूसरे को जुर्माना देना पड़ा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस