धनबाद : जान मारने की नीयत से हमला कर तीन लोगों को जख्मी कर देने के आरोपित लोदना 40 धौड़ा निवासी समीर सिंह व उनके पुत्र विशाल कुमार को गुरूवार को अदालत ने चार-चार वर्ष की कठोर कारावास एवं पंद्रह-पंद्रह हजार रुपये जुर्माना से दंडित किया है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश पियूष कुमार की अदालत ने 27 जून को दोनों को दोषी करार दिया था। अभियोजन की ओर से अपर लोक अभियोजक ओमप्रकाश तिवारी व वरीय अधिवक्ता कुमार मनीष ने पैरवी की। उल्लेखनीय है कि लोदना 40 धौड़ा निवासी सूरज कुमार की शिकायत पर पिता-पुत्र आरोपित बने थे। झरिया थाने में दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक 19 जनवरी 2013 को बच्चों के बीच झगड़े में दोनों ने सूरज कुमार ,दीपक एवं आदर्श को मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

----------

दारोगा का वेतन रोकने का आदेश

धनबाद : अदालती आदेश की अवहेलना दो पुलिस अधिकारियों को महंगा पड़ा है। जला एवं सत्र न्यायाधीश संजय कुमार की अदालत ने एसआई नजीमुद्दीन खान एवं फिदेलीस पन्ना का वेतन रोकने का आदेश डीजीपी झारखंड को दिया है। अदालत द्वारा बार-बार नोटिस भेजे जाने के बाद दोनों गवाही देने उपस्थित नहीं हो रहे थे। मामला हत्या का था लिहाजा अदालत ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। बताते हैं कि तोपचाची थाना क्षेत्र में 23 मार्च 2011 को मीरा देवी की हत्या कर शव को झाड़ी में फेंक दिया गया था। पुलिस ने हत्या के आरोप में रीता देवी एवं सुनीता देवी के विरुद्ध अदालत में आरोप पत्र दायर किया था। मृतका की पुत्री बबीता कुमारी की शिकायत पर तोपचाची थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप