जागरण संवाददाता, धनबाद : मकर संक्राति पर पतंगबाजी करने का भी अपना एक अलग मजा है। पतंग को इससे जोड़कर देखा जाता है। इसीलिए बाजार में संक्रांति को लेकर पतंग का बाजार भी सज जाता है। धनबाद का कोई ऐसा बाजार नहीं, जहां आपको पतंग न मिले। अब तो गली-मोहल्ले में भी पतंगों की बिक्री होने लगी है। इस बार कोरोना की वजह से पतंगों की बिक्री पर भी असर देखने को मिल रहा है। पिछले वर्ष की तुलना करें तो पतंगों की बिक्री में कमी आई है। बाजार में दुकानें भी कम हैं और लोग खरीदारी भी कम कर रहे हैं। बावजूद मकर संक्रांति पर पतंगबाजी करनी है तो शुभ के लिए या फिर बच्चों की जिद पर थोड़ी-बहुत खरीदारी जरूर कर रहे हैं।

-----------------

बच्चों में कार्टून कैरेक्टर की पतंगें आज भी लोकप्रिय

शहर की बात करें तो कम लोग पतंग खरीद रहे हैं। इस बार बाजार में पतंग की दुकान कम लगी है। पुराना बाजार में पतंग की कुछ दुकानें जरूर सजी हैं। बड़ों से ज्यादा छोटे बच्चे पतंग खरीदने में अधिक दिलचस्पी ले रहे हैं। कार्मल स्कूल के बगल में एक दो पतंग की दुकानें भी लगी हैं। छोटा भीम, राजू, चुटकी, डोरेमोन, मिक्क्ी माउस, स्पाइडरमैन, मोटू पतलू, सुपर मारिओ और बन्नी आदि ऐसे पसंदीदा कार्टून कैरेक्टर हैं, जिनकी पतंग बच्चे अधिक पसंद कर रहे हैं। बच्चे अपनी पसंद के कार्टून कैरेक्टर की पतंग खरीद रहे है। ये पतंग पांच से 15 रुपये के बीच उपलब्ध हैं। कुछ पतंगों में हैप्पी न्यू ईयर तो कुछ मेरा भारत महान और जय हिद लिखा हुआ है। कुछ पतंगों का आकार मछली की तरह है। पतंग के साथ इसकी डोर 80 रुपये से 450 रुपये तक उपलब्ध है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021