धनबाद : धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन पर 15 जून से परिचालन बंद है। भूमिगत आग से खतरे को लेकर परिचालन बंद किया गया है। दूसरी तरफ बीसीसीएल प्रबंधन कोयला ढुलाई को लेकर गंभीर है। कुसुंडा स्टेशन पर नया लोडिंग साइडिंग चालू करने की योजना है। धनबाद से कुसुंडा की दूरी भी मात्र 3.5 किमी है।

तीन करोड़ रुपये होंगे खर्च :

कुसुंडा साइडिंग केटीएस के बगल में ही नया रेल लोडिंग साइडिंग होगा। करीब साढ़े सात सौ मीटर लंबा व तीस मीटर चौड़ी साइडिंग होगी। मालूम हो कि बीसीसीएल की धनबाद चंद्रपुरा रेल लाइन में सात लोडिंग साइडिंग थी। साइडिंग बंद होने से करीब 7 मिलियन टन कोयला का डिस्पैच प्रभावित हुआ है।

सुदामडीह साइडिंग जल्द होगा चालू : प्रबंधन की सुदामडीह में जल्द रेलवे साइडिंग चालू करने की योजना है। काम लगभग पूरा कर लिया गया है। इसके साथ ही महेशपुर में भी नए साइडिंग का निर्माण किया जाएगा।

रैक लोडिंग की संख्या बढ़ाने का निर्देश : बीसीसीएल को प्रतिदिन 23 रैक से अधिक कोयला लोडिंग करने की जिम्मेवारी मिली है। आनेवाले समय में कोयले की मांग को देखते हुए उसे बढ़ाकर 40 रैक प्रतिदिन डिस्पैच करने का लक्ष्य है। मौजूदा समय में साइडिंग नहीं रहने के कारण रैक से कोयला ढुलाई करने में परेशानी हो रही है। औसतन 20 से 21 रैक ही कोयला ढुलाई हो पा रही है।

Posted By: Jagran