जागरण संवाददाता, धनबाद। कोयलांचल में तेजी से हर दिन पारा लुढ़क रहा है। हाड़ कपाती ठंड की चपेट में धनबाद वासी आ रहे हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा खतरा हृदय, मधुमेह और हाई बीपी के मरीजों को है। शहीद निर्मल महतो मेमोरियल कॉलेज एवं अस्पताल में लगने की शिकायत तेजी से बढ़ रही है। इसमें बच्चे बुजुर्गों के साथ बड़े भी ग्रसित हो रहे हैं। ऐसे लोगों को ठंड से बचने के लिए विभिन्न प्रकार के परामर्श दे रहे हैं। सबसे ज्यादा सुबह और शाम में ठंड से बचने के लिए बाहर नहीं निकलने को बताया जा रहा है। यदि मॉर्निंग वॉक करनी है तो सूर्य निकलने के बाद, जब पूरी तरह से धूप आ जाए तब बाहर जाए।

ठंड में मार्निंग से हो सकता ब्रेन स्ट्रोक

धनबाद सदर अस्पताल के डॉक्टर सी एस सुमन बताते हैं कि ठंड में मॉर्निंग वॉक से बचना चाहिए। उन्होंने बताया कि मॉर्निंग वॉक पर सुबह में टहलना वैसे लोगों को काफी नुकसानदेह साबित हो सकता है, जो पहले से उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं। दरअसल ठंड में हमारे शरीर की नसें सिकुड़ जाती हैं। इसमें खून का प्रभाव बहुत तेजी से नहीं हो पाता। वही मॉर्निंग वॉक पर जाने पर ठंड के वजह से मस्तिष्क के न्यूरॉन भी सिकुड़ने लगते हैं। लगातार ऐसे होने से मस्तिष्क में स्थित न्यूरॉन फट सकते हैं। ऐसा होने से तत्काल ब्रेन स्ट्रोक का खतरा हो जाता है। ऐसे मरीज को सुबह में नहाना भी नहीं चाहिए। अधिकांश ऐसे केस मिलते है कि नहाते वक्त जमीन पर गिरने से मौत हो गई। असल में ऐसे अधिकांश मामले ब्रेन स्ट्रोक होने के कारण होता है। इसमें वह लोग ज्यादा शामिल होते हैं, जो उच्च रक्तचाप से ग्रसित होते हैं।

इन बातों का रखें विशेष ख्याल

  • सुबह और शाम में बेवजह बाहर नहीं निकले
  • खाने में गर्म और सूप का प्रयोग ज्यादा करें
  • पूरे शरीर ढक कर खासकर कान और पैर रखें
  • बाहरी अनावश्यक यात्रा को स्थगित कर दें
  • घर में स्लीपर का प्रयोग करें
  • धूप निकलने के बाद एक्सरसाइज करें

Edited By: Mritunjay