धनबाद, जेएनएन। अगले महीने 28 और 29 मार्च को होली है। होली की भीड़ अभी से ही ट्रेनों में दिखने लगी है। खास तौर पर दिल्‍ली, मुंबई, गुजरात समेत बड़े शहरों से लौटने वाली ट्रेनों में अब सीट मिलना मुश्किल है। यही हाल बिहार जानेवाली ट्रेनों में है। हटिया से गोरखपुर जानवाली मौर्य एक्‍सप्रेस 26 मार्च तक भर चुकी हैं। सेकेंड सीटिंग से थर्ड एसी तक जगह नहीं बचे हैं। पर धनबाद से पटना जानेवाली गंगा-दामोदर एक्‍सप्रेस पूरी खाली है। पहले जहां होली को लेकर महीनों पहले पूरी ट्रेन हाउसफुल हो जाती थी। इस बार यात्रियों की तवज्‍जो नहीं मिल रही है।

टिकट के लिए बताना पड़ रहा पिन कोड

गंगा-दामोदर एक्सप्रेस ट्रेन का किराया अधिक है और बिहार जानेवाले यात्री कम किराए वाली ट्रेन ढूंढ़ रहे हैं। यात्रियों का साफ कहना है कि एक तो ज्‍यादा किराया, उस पर डाकघर, थाना, पिन कोड जैसे डिटेल्‍स पूछे जा रहे हैं जो आम यात्रियों के लिए परेशानी सबब है। आम यात्री पहले टिकट लेकर परिवार के साथ जनरल में चढ़ जाते थे और आसानी से पहुंच जाते थे। अब उन्‍हें भी गंतव्‍य का पूरा पता, किस राज्‍य में जा रहे हैं, किस थाना क्षेत्र में जाएंगे, डाकघर क्‍या है और पिन कोड भी बताना पड़ रहा है। गांव के लोगों को रेलवे की नई व्‍यवस्‍था रास नहीं आ रही है। ट्रेन के बजाय बसों से सफर करना पसंद कर रहे हैं। 

यात्री नहीं मिलने पर भी नहीं घटा किराया, तत्‍काल भी बंद

महंगे किराए के कारण गंगा-दामोदर एक्‍सप्रेस को पहले से ही यात्री नहीं मिल रहे हैं। दुर्गा पूजा और छठ के बाद ट्रेन लगभग खाली ही चल रही है। बावजूद रेलवे इस ट्रेन को स्‍पेशल बनाकर फेरे बढ़ा रही है। पहले दिसंबा, फिर जनवरी और अब मार्च तक एक्‍सटेंशन मिला पर किराए में संशोधन नहीं हुआ। अधिक किराए के कारण रेलवे ने इस ट्रेन में तत्‍काल कोटे की बुकिंग भी बंद कर दी। हालांकि रेलवे का दावा है कि किराए में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है। यही हाल वनांचल, रक्‍सौल-हैदराबाद साप्‍ताहिक जैसी लोकप्रिय ट्रेनों का है।

इन ट्रेनों में करा सकते हैं होली की बुकिंग

  • 03403 रांची भागलपुर वनांचल एक्‍सप्रेस में होली से पहले यानी 26 मार्च से स्‍लीपर और थर्ड एसी में कुछ सीटें खाली हैं।
  • 03329 धनबाद पटना  गंगा-दामोदर एक्‍सप्रेस सेकेंड सीटिंग से फर्स्‍ट एसी तक लगभग 90 फीसद सीटें खाली।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021