धनबाद, जेएनएन : एटीएम से कैश निकाल कर रख लीजिए क्याेंकि एटीएम अब ऑल टाइम मनी नहीं देता है। दोपहर के बाद यदि आपको कैश की जरूूरत पड़ी तो फिर अगले दिन सुबह छह बजे तक इंतजार करना पड़ेगा। क्योंकि बैंक बंद होते ही एटीएम के शटर भी गिरने लगते हैं।

बैंकों का समय तो दो बजे तक किया गया है। एटीएम के समय मेंं किसी प्रकार का कोई अधिकारिक फेर बदल नहीं किया गया है। बैंक और एटीएम को आवश्यक सेवा मानते हुए स्वास्थ्य सुरक्षा की पाबंदियों से अलग रखा गया है। लेकिन बैंकों ने खुद ही एटीएम पर भी पाबंदी लागू कर दिया है। दोपहर बाद एटीएम से पैसे निकालने के लिए भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।

दवा व अस्पताल में बिल देने के लिए लोगों को अगले दिन का इंतजार करना पड़ रहा है। मनोज कुमार के भाई एक निजी अस्पताल में इलाजरत है। कोविड संक्रमण से जुझ रहे हैं। उन्हें अस्पताल में 15 हजार रूपये जमा करने को कहा गया। जैसे ही मनोज सिटी सेंटर पहुंचे तो वहां आस-पास के सभी एटीएम बंद मिले। उसके बाद जैसे ही वह एसडीओ कार्यालय कैंपस स्थित एटीएम पहुंचे तो वहां भी शटर गिरा हुआ था। उसके बाद मनोज एक के बाद एक कई एटीएम को खंगाल डाला पर एटीएम बंद मिले।

अशोक अग्रवाल का बेटा मुंबई में रहता है बीमार है। उसे तत्काल पैसे भेजने थे। लेकिन जब अशोक सवा दो बजे कैश डिपोजिट मशीन में पैसा जमा करने पहुंचे तो सीडीएम बंद था। उन्हें पता था कि पुलिस लाइन सीएमपीएफ के पास कैश डिपोजिट मशीन है वहां शायद खुला हो पर उनका भागना दौड़ना कोई काम नहीं आया और वही भी बंद मिला। उन्होंने बताया कि बेटे को पैसे की सख्त जरूरत है अब कैसे भेजे। एटीएम और सीडीएम मशीन बंद होने के कारण लोगों को काफी परेशानी हो रही है।