धनबाद, जेएनएन। बीबीएम कोयलाचल विश्वविद्यालय के पासआउट छात्रों को अपने प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए शुल्क देना होगा। शुक्रवार को कुलपति की अध्यक्षता में हुई विवि की एक बैठक में यह निर्णय लिया गया।

कुलसचिव कर्नल एमके सिंह ने कहा कि राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों में शैक्षणिक प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए शुल्क निर्धारित है। जबकि कोयलाचल विश्वविद्यालय में निश्शुल्क प्रमाणपत्रों का सत्यापन किया जाता है। उन्होंने बताया कि आइआइटी-आइएसएम, राची विश्वविद्यालय सहित राज्य के तमाम उच्च शैक्षणिक संस्थानों में शैक्षणिक प्रमाण पत्र के सत्यापन पर शुल्क लिया जाता है। विवि अधिकारियों ने शैक्षणिक प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए 500 रुपये से लेकर एक हजार रुपये के बीच शुल्क रखने का निर्णय लिया है। हालांकि अभी इसे कार्यान्वित करने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा एक कमेटी बनाई जाएगी।

कमेटी राज्य के अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों में शुल्क दर की समीक्षा कर शुल्क निर्धारण पर निर्णय लेगी। इसके बाद इसे विवि के एकेडमिक काउंसिल से पास कराया जाएगा। विश्वविद्यालय पदाधिकारियों के अनुसार बड़ी संख्या में पूर्ववर्ती छात्रों के शैक्षणिक प्रमाण पत्र सत्यापन के लिए आते हैं। इनमें ज्यादातर छात्रों की नौकरी लगने के बाद उनकी कंपनी, फर्म या संबंधित विभाग के द्वारा उनके शैक्षणिक प्रमाणपत्रों का सत्यापन करवाया जाता है। इसमें विश्वविद्यालय का समय और ऊर्जा जाया होता है। यही वजह है कि विश्वविद्यालय ने प्रमाणपत्रों के मूल्याकन के लिए शुल्क लगाने का निर्णय लिया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस