बेरमो, जेएनएन। अपने पिता इंटक के राष्ट्रीय महामंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के निधन के बाद खाली पड़े पदों पर अनूप सिंह एक-एक कर विराजमान होने में जुट गए हैं। इसमें उन्हें सफलता भी मिल रही है। अनूप सिंह को इंटक से संबद्ध राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ का अध्यक्ष बनाया गया है। फुसरो के अवध विवाह मंडल में मंगलवार को हुई केंद्रीय कार्यसमिति की बैठक में अनूप सिंह को राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ (राकोमसं) का केंद्रीय अध्यक्ष चुना गया। हालांकि कुछ लोग विरोध भी कर रहे हैं। विरोध करने वालों का तर्क है कि मजदूर राजनीति में सिर्फ वंशवाद के आधार पर संगठन की जिम्मेदारी सौंपना ठीक नहीं है। धनबाद में बरोरा एरिया के संघ उपाध्यक्ष केबी सिंह ने अनूप सिंह को अध्यक्ष बनाने का विरोध किया। उनका कहना था कि वे वंशवाद के विरोधी हैं। 

यह भी पढ़ें- INTUC: राजेंद्र बाबू के बेटे अनूप बने राष्ट्रीय खान मजदूर फेडरेशन के अध्यक्ष, अब इंटक में चलेगी वंशवाद की राजनीति

अनूप सिंह राकोमसं के संयुक्त महामंत्री थे। राजेंद्र सिंह के निधन के बाद केंद्रीय अध्यक्ष का पद रिक्त हो गया था। इसी बीच अनूप सिंह ने सारे पुराने नेताओं के साथ बातचीत की। सबसे राय मशविरा के बाद फुसरो में केंद्रीय कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई। कार्यकारी अध्यक्ष सह पूर्व मंत्री ओपी लाल ने बैठक की अध्यक्षता की। सब कुछ योजनानुसार चल रहा था कि बरोरा एरिया के केबी सिंह के विरोध के बाद बैठक में हंगामा हो गया। संचालक एके झा समझाते रहे। वरीय नेताओं के हस्तक्षेप के बाद दोबारा शांति कायम हो सकी। इसके बाद इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष जी संजीवा रेड्डी का फोन के जरिए भेजा गया संदेश सुनाया गया। संजीवा रेड्डी ने कहा कि कोल इंडिया की हड़ताल को ऐतिहासिक बनानी होगी। भारत सरकार पूंजीपतियों की कठपुतली बन चुकी है। उसके मंसूबे नाकामयाब करने हैं। संघ के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सरफराज अहमद, उपाध्यक्ष एसएस जमां, संगठन सचिव संतोष कुमार महतो ने फोन पर संदेश भेज अनूप सिंह का समर्थन किया। 

मजूदर एकजुट नहीं हुए तो कोयला उद्योग गिरवी हो जाएगा 

राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ के अध्यक्ष चुने जाने के बाद अनूप सिंह ने कहा कि मजदूर एकजुट नहीं हुए तो कोयला उद्योग निजी हाथों में गिरवी हो जाएगा। हड़ताल ऐसी होनी चाहिए कि भारत सरकार सोचने को मजबूर हो जाय। अब भारत सरकार के मजदूर विरोधी होने पर किसी को तनिक भी संदेह नहीं है। उन्होंने कहा कि वे कभी भी अपने पिता की जगह नहीं ले सकते। संघ में जीवन का लंबा समय देने वाले अनेक लोग हैं। उनके मार्गदर्शन से संगठन को नयी दिशा देने का प्रयास करेंगे। 

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस