जागरण संवाददाता, दुमका। मसलिया के आमगाछी पंचायत के डहारलंगी टोला में रविवार की रात 47 साल की विधवा सुबोधी बास्की की हत्या के बाद पड़ोस के युवक बाबूश्वर बास्की ने अपने रिश्ते के चाचा के साथ मिलकर करीब 50 मीटर दूर तक शव ढोने के बाद जंगल में दफना दिया था। महिला की हत्या इसलिए की गई थी क्योंकि उसके बैल ने आरोपित की फसल चर ली थी। मंगलवार को पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

पुलिस सभागार में एसपी अंबर लकड़ा ने बताया कि महिला की हत्या के बाद बेटे रूपधन सोरेन के बयान पर मामले की छानबीन की गई। इस दौरान डीएसपी विजय कुमार ने पूरी टीम के साथ हत्या के कारण को जानने की कोशिश की। इस क्रम में पता चला कि महिला का पड़ोस में रहने वाले बाबुश्वर बास्की से पहले से जमीन का विवाद चल रहा है। शनिवार को महिला के बैल ने उसकी फसल चर ली। इस बात को लेकर दोनों पक्षों में बहस हुई थी। इसके बाद बाबूश्वर ने रिश्ते के चाचा गुड़मा बास्की और दो अन्य युवक के साथ हत्या की साजिश रची। पुलिस ने आरोपित की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त हथियार बरामद कर लिया है। मौके पर डीएसपी विजय कुमार, निरीक्षक रङ्क्षवद्र कुमार ङ्क्षसह, थाना प्रभारी ईश्वर दयाल मुंडा, विश्वजीत कुमार व मालिक मुर्मू आदि मौजूद थे।

अकेले बाबूश्वर ने की थी हत्या ः आरोपित ने बताया कि उसने अकेले ही रात को लोहे के नुकीले हथियार से महिला की हत्या की थी। इसके बाद चाचा और अन्य दो सहयोगियों के साथ लाश को कंधे पर ढोकर करीब 50 मीटर जंगल में ले जाकर दफना दिया। बताया जाता है कि महिला से उसका पहले से जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। बैल के फसल खाने के बाद गुस्सा आ गया था। इसी गुस्से में आकर महिला की हत्या कर दी।

Edited By: Gautam Ojha