झरिया, प्रतिनिधि : बुधवार को झरिया के गुजराती उच्च विद्यालय में दसवीं के छात्रों का विदाई समारोह चल रहा था। तभी स्कूल की गैलरी में दो धमाके होने से भगदड़ मच गई। इसमें आधा दर्जन बच्चे चोटिल हो गए। देर शाम छत के शौचालय में भी एक धमाका हुआ। धमाके के बाद स्कूल से भाग रहे युवकों को खदेड़ने वाले दो छात्रों की भी बाटा मोड़ पर पिटाई कर दी गई। सूचना पुलिस को दी गई है। पुलिस का कहना है कि धमाका बम का नहीं पटाखे का है।

विदाई समारोह में सभी बच्चे रंगारंग कार्यक्रम में डूबे थे। पुरस्कार वितरण हो रहा था। तभी दो धमाके हुए। भगदड़ के बीच स्कूल से बाहर की ओर भाग रहे दो युवकों को बच्चों के दल ने खदेड़ दिया, लेकिन बाटा मोड़ पहुंचने पर राहुल पांडेय और अमल साव को युवकों ने पीट दिया। पीड़ित छात्रों ने पुलिस इंस्पेक्टर को उनके नाम गुड्डू और विकास बताये हैं। भगदड़ में कई बच्चों के चोटिल होने सी सूचना है।

ऊपरी मंजिल पर धमाका, निचली पर पुलिस : देर शाम स्कूल की तीसरी मंजिल के शौचालय में तीसरा धमाका हुआ। उस समय पुलिस निचली मंजिल से ऊपर आ रही थी। उस वक्त पार्षद अनूप साव भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि शरारती तत्वों पर लगाम के लिये पुलिस उचित कदम उठाये।

बम नहीं पटाखा: उपाध्याय

थाना प्रभारी श्रीकांत उपाध्याय ने बताया कि धमाका पटाखा का है। काफी माथापच्ची के बाद यही निष्कर्ष निकला कि किसी ने पटाखा में आग लगाकर रख दी और भाग गया। जब पटाखे तक आग गई तो विस्फोट हो गया। शरारती तत्वों पर नकेल कसने के लिये उपाय करेंगे।

अराजक तत्वों की हरकत : प्राचार्य

गुजराती उच्च विद्यालय की प्राचार्या मंजुला देवी ने बताया कि धमाके से भगदड़ मची। अवांछनीय तत्वों के आने जाने पर रोक लगाने के लिये कड़े कदम उठाये हैं। इसी कारण इस प्रकार की हरकत की गई। सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर