धनबाद : श्री गुरु ग्रंथ साहिब महाराज का 414वां प्रकाश स्थापना गुरु पर्व रविवार को बैंकमोड़ बड़ा गुरुद्वारा में मनाया गया। दो दिवसीय विशेष समागम के आखिरी दिन बड़ा गुरुद्वारा गुरु ग्रंथ साहिब का मुख्य दीवान सजाया गया। चंडीगढ़ से आए रागी भाई ह¨रदरपाल सिंह ने शबद गायन व कथा वाचन से संगतों को निहाल किया। धुर की वाणी आई, तिन सगली चिंत मिटाई। पौथी परमेश्वर का थान, साध संग गवहि गुण गोविंद पुरण ब्रह्मा ज्ञान। जोत रूप हरि आपि गुरु नानक कहाओ। वाणी गुरु है, बाणी विच बाणी अमृत सोर जैसे वाणी से संगत निहाल हुए।

रागी भाई ह¨रदरपाल सिंह ने गुरु ग्रंथ साहिब पर प्रकाश डालते हुए कहा कि गुरु ग्रंथ साहिब मात्र सिखों के ही उपदेश नहीं हैं, इनमें हिन्दू व मुस्लिम भक्तों की वाणी भी सम्मलित है। इसमें जहां जयदेव, परमानंद जी जैसे ब्राह्माण भक्तों की वाणी है, वहीं कबीर, रविदास, नामदेव, धन्ना की वाणी भी है। विशेष समागम की समाप्ति पर गुरु का लंगर लगाया गया। हजारों लोगों ने लंगर में गुरु का प्रसाद प्राप्त किया।

135 लोगों ने कराई आंख की जांच

इस दौरान स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन किया गया, जिसमें 135 लोगों ने अपनी आंखों की जांच कराई। दो दिवसीय गुरुपर्व को सफल बनाने में गुरुद्वारा कमेटी के सचिव तेजपाल सिंह, रजिंदर सिंह चहल, दविंदर सिंह गिल, प्रधान जगजीत सिंह संधू, जगजीत सिंह, सतपाल सिंह ब्रोका, गुरजीत सिंह, रूप सिंह, दरबारा सिंह आदि का योगदान रहा।

----------

सहज पाठ करने वाले बच्चे पुरस्कृत

इस मौके पर सहज पाठ करने वाले बच्चों को बड़ा गुरुद्वारा कमेटी द्वारा पुरस्कृत किया गया। गुरुनानक हाईस्कूल में नौवीं व दसवीं में पढ़ रहे बच्चों को पुरस्कृत किया गया। वहीं, विशेष तौर पर दैनिक जागरण के वरीय समाचार संपादक डॉ. चंदन शर्मा को सम्मान चिह्न देकर सम्मानित किया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस