विधि संवाददाता, धनबाद। Dhanbad District and Sessions Judge Uttam Anand Murder सड़क हादसे में मारे गए धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश-8 उत्तम आनंद की माैत की जांच पुलिस ने हत्या के एंगल से शुरू कर दी है। पहले माना जा रहा था कि न्यायाधीश की माैत एक सामान्य दुर्घटना है। लेकिन हादसे का सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद रहस्य गहरा गया है। फुटेज में साफ दिख रहा है कि ऑटो ने जानबूझकर धक्का मारा है। न्यायाधीश सड़क के एकदम किनारे तेजी से चले जा रहे थे। पीछे से ऑटो धीरे-धीरे उनकी ओर बढ़ता है और धक्का मार निकल जाता है।

सुबह 5 बजर 8 मिनट पर घटी घटना

न्यायाधीश उत्तम आनंद रोज की तरह बुधवार सुबह मार्निंग वाक करने अपने आवास से गोल्फ ग्रांउड की तरफ निकले थे। रणधीर वर्मा चौक के आगे न्यू जजेज कॉलोनी मोड़ पर पीछे से एक ऑटो धक्का मारकर तेजी से निकल गया। आनन-फानन में उन्हें एसएनएमसीएच ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पहले माना जा रहा था कि यह एक हादसा है। लेकिन सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद साजिश से इन्कार नहीं किया जा सकता है। इसक मद्देनजर पुलिस ने हत्या के एंगल से जांच शुरू कर दी है। 

एसएसपी ऑफिस में हुई हाई लेबल मीटिंग

सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद संदेह गहरा गया है। इसे देखकर कोई भी बोल पड़ेगा कि यह साजिश है। न्यायाधीश हल्की गति से लाैड़ते हुए सड़क किनारे से गुजर रहे हैं। पीछे से एक ऑटो आता है। पहले सड़क पर ऑटो की दिशा सीधी होत है। लेकिन न्यायाधीश के पास पहुंचते ही बायी तरफ मुड़ जाता है। फिर धक्का मारता है। फिर तेजी से भाग निकलता है। फुटेज देखने के बाद धनबाद के एसएसपी संजीव कुमार ने अपने दफ्तर में हाई लेबल मीटिंग की। चूंकि, मामला न्यायाधीश की माैत है। 

हाई कोर्ट ने तलब की रिपोर्ट

न्यायाधीश की माैत का मामला रांची हाई कोर्ट तक पहुंच गया है। हाई कोर्ट ने धनबाद के जिला जज के निपोर्ट मांगी है। उत्तम आनंद छह माह पूर्व ही बोकारो जिले से ट्रांसफर होकर धनबाद आए थे। वह धनबाद के बहुचर्चित रंजय सिंह हत्याकांड में सुनवाई कर रहे थे। इस मामले में झरिया की कांग्रेस विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह के माैसेरे देवर हर्ष सिंह आरोपित हैं। न्यायाधीश ने तीन दिन पूर्व यूपी के शूटर अमन सिंह ने एक शार्गिद की जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

Edited By: Mritunjay