धनबाद : धनसार में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा कोरोना वायरस के कारण नगर भ्रमण नहीं निकाली गई। मंदिर समिति के लोगों व पुजारी ने मंगलवार को मंदिर परिसर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली। शाम पांच बजे भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और भाई बलराम को रथ पर विराजमान कर रथयात्रा निकाली गई। रथयात्रा में श्रद्धालुओं को शामिल होने की अनुमति इस साल नहीं दी गई थी। इसलिए श्रद्धालुओं ने भगवान जगन्नाथ का दर्शन मंदिर के मुख्य गेट के बहार से ही किया और प्रसाद ग्रहण किया।

जगन्नाथ मंदिर धनसार में उत्कल संस्कृति पर आधारित परंपरागत तरीके से दिनभर पूजा-अर्चना किया गया। सुबह के समय भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और भाई बलराम की विधिविधान से पूजा-अर्चना की गई। महाआरती कर प्रसाद चढ़ाया गया। शाम में भक्तों के बीच प्रसाद वितरण किया गया। इसके बाद भगवान मौसीबाड़ी लिए चले गए। जगन्नाथ पूजा में शामिल पुजारी : भगवान जगन्नाथ की पूजा-अर्चना के लिए जगन्नाथ मंदिर धनसार के मुख्य पुजारी देवाशीष पंडा, सूरज कुमार पंडा और अभय प्रसाद पाढ़ी के सानिध्य में पूजा-अर्चना की गई। मंदिर कमेटी के महेश्वर राउत ने बताया कि रथयात्रा के बाद का कार्यक्रम 25 जून को होगा। इसमें मुख्य रूप से शामिल आरएस महापात्रा व अमरेश सिंह उपस्थित हुए। रघुवर नगर कुंज विहार में रथयात्रा : रघुवर नगर कुंज विहार धनबाद में 14वीं रथयात्रा का आयोजन किया गया। हर वर्ष की भाति इस बार भी भगवान जगन्नाथ, बलराम व सुभद्रा को रथ पर बैठाकर पूजा व अनुष्ठान किया गया। कोविड-19 एवं लॉकडाउन के चलते रथ को कॉलोनी परिसर में ही शारीरिक दूरी का पालन करते हुए घुमाकर मौसीबाड़ी लाया गया। इस दौरान सभी ने भगवान से विश्व कल्याण की प्रार्थना की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस