नावागढ़ : फुलारीटांड़ कोलियरी में संचालित डेको आउटसोर्सिंग परियोजना के कर्मी गुरुवार को प्रबंधन की ओर से जारी फरमान नो वर्क नो पे के खिलाफ आंदोलन पर उतर आए। कर्मियों ने प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। कहा कि आउटसोर्सिंग प्रबंधन अपनी मनमानी के तहत मजदूरों का शोषण करने लगा है। कल तक कंपनी आवश्यक सेवा के नाम पर कर्मियों से काम ले रही थी। कोरोना को लेकर सरकार द्वारा जारी निर्देश के बाद भी प्रबंधन बगैर किसी सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराए कर्मियों से तीनों पाली में काम करवा रहा था। अचानक नो वर्क नो पे का फरमान जारी कर दिया गया है, जो कर्मियों के साथ अन्याय है। कंपनी कर्मियों से काम ले या नहीं ले पर हमलोग आठ घंटे यहां बैठ कर रहेंगे और कंपनी को हरहाल में हाजिरी देना होगा। मंगलवार की आधी रात को आउटसोर्सिंग परियोजना के मुख्य पैच में गैलरी फट जाने से अचानक पानी भर गया। वहां जलमग्न हो गया। मशीन, स्विच, मोटर आदि भी पानी में डूब गया। प्रत्येक दिन अनुमानत: पांच हजार टन कोयले का उत्पादन प्रभावित हो गया है। प्रबंधकीय सूत्रों के अनुसार पैच से जल निकासी को लेकर युद्धस्तर पर कार्य किए जा रहे हैं। फिर भी पानी निकासी में समय लगेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस