धनबाद [आशीष अंबष्ठ ]। सीएमपीएफ में एक ही कुर्सी पर वर्षों से जमे अधिकारियों-कर्मचारियों को लेकर बड़ा उलटफेर होने वाला है। इसके संकेत आयुक्त ने दिए हैं। हुक्मरान की निगाह में ये लोग वायरस हैं, जिन्होंने काली कमाई के लिए ऑनलाइन सिस्टम हैंग कर दिया है। छह माह से मैन्युअली काम हो रहा है। फिलहाल, वायरस को क्लीन करने के लिए ईमानदारी अधिकारियों की लिस्ट तैयार कर ली गई है। जल्द ही, उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी। तो विभाग में काकस बनाकर जमे लोग तितर-बितर कर दिये जाएंगे।  

अन्य शहरों में होगा तबादला 

करीब 1021 कर्मचारी सीएमपीएफ में कार्यरत है। लंबे समय से लोगों को तबादला भी नहीं हुआ है, जिनका हुआ उनका केवल जोन बदला गया। इस बार प्रबंधन कर्मचारियों को मुख्यालय अथवा क्षेत्रीय कार्यालय से अन्य शहरों में भेजने की तैयारी है। इसके लिए रिस्ट्रक्चर करने पर काम चल रहा है। 

दागी लोगों को दूसरे जगह होगा तबादला

सीएमपीएफ में 60 से अधिक कर्मचारियों की विजिलेंस जांच चल रही है, जिसके रिपोर्ट तैयार हो रही है। जिन लोगों को नाम कार्रवाई के लिए आएगा। उनका तबादला वहां से करने की तैयारी भी है। इसके लिए अंदर-अंदर काम चल रहा है। ईसीएल, सीसीएल व बीसीसीएल में हुई घोटाले की जांच में शामिल लोगों की रिपोर्ट जल्द ही जारी होगी। 

कोल कंपनियां निभाती हैं कागजी प्रक्रिया

बताया जाता है कि कोल कंपनियां केवल कागजी प्रक्रिया पूरी करना ही जिम्मेदारी समझती है। तबादला के नाम पर केवल टेबल बदला जाता है। उसके बाद काम वही अधिकारी व कर्मचारी करते है। अगर इसकी जांच हो जाए तो सारा मामला सामने आ जाएगा। 

5-10 परसेंट रिश्वत का खेल 

भविष्य निधि का फंड का जोड़ तैयार करने में पांच से दस परसेंट रिश्वत का खुला खेल चलता है। ऑनलाइन सिस्टम हो जाने पर कर्मचारी बहाना नहीं बना पाएंगे कि डाटा सर्च करना है या अपडेट नहीं है। यह सब मैन्युअली काम में ही संभव है, जिसके चलते यह कर्मचारी ऑनलाइन सिस्टम में वायरस बनकर उसे हैंग किये हुए हैं।

एक ही कुर्सी पर वर्र्षों से जमे अधिकारियों-कर्मचारियों का काकस ऑनलाइन सेवा को चालू करने में सबसे बड़ा बाधक है। इसे तोडऩे की तैयारी कर ली गई है। प्लान तैयार है। जल्द ही तबादले की सूची जारी कर दी जाएगी। क्योंकि पीएफ व पेंशन सदस्यों को सुविधा में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जा सकती है।

-अनिमेष भारती, आयुक्त सीएमपीएफ 

  •  10.34 लाख कोल माइंस भविष्य निधि संगठन में  सदस्य है।  
  • 4.62 लाख पीएफ सदस्यों को संख्या 
  •  5.72 लाख पेंशनरों की संख्या  
  • 02 हजार कर्मचारी हर माह हो रहे सेवानिवृत्त

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस