जसीडीह (देवघर): विश्व मृदा दिवस के मौके पर मंगलवार को कृषि विज्ञान केन्द्र सुजानी के सभागार में किसानों को मिट्टी जांच का प्रशिक्षण दिया गया। कृषि वैज्ञानिक सह कार्यक्रम समन्वयक पीके सन्नीग्रही ने किसानों को बताया कि अधिकतर किसान खेतों की मिट्टी जांच किए बिना ही फसलों को लगा देते हैं, जिससे उनके पैदावार में कमी आ जाती है और उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है। कहा कि किसानों को अपनी आय तीन गुणा बढ़ाने के लिए अपने खेतों की मिट्टी जांच कराकर ही फसल लगानी चाहिए। जांच से मिट्टी में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की कमी के बारे में जानकारी मिलने पर उसी पोषक तत्वों का उपयोग कर सकते हैं।

इस दौरान सैकड़ों किसानों को जांच का कार्ड भी दिया गया। नए किसानों को मिट्टी जांच के लिए प्रेरित किया गया।

मौके पर जिला कृषि पदाधिकारी श्याम नारायण सरस्वती, वार्ड पार्षद रीता चौरसिया, स्वामी राधाकांत महाराज, डॉक्टर राजन ओझा, अनिल कुमार राय, डॉक्टर पूनम सोरेन, परिमल कुमार ¨सह समेत अन्य कर्मी मौजूद थे।

Posted By: Jagran